ममता बोली-अमित शाह की धमकी से डरा चुनाव आयोग, इसलिए प्रचार किया बैन

ममताममता
Loading...

पश्चिम बंगाल। चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल के नौ संसदीय क्षेत्रों में चुनाव प्रचार पर बैन लगा दिया है। आयोग के इस फैसले के बाद अब दमदम, बारासात, बशीरहाट, जयनगर, मथुरापुर, जादवपुर, डायमंड हार्बर, दक्षिण और उत्तरी कोलकाता में अब सीधे वोटिंग ही होगी। यह बैन गुरुवार रात 10 बजे से लागू माना जाएगा।

ये भी पढ़ें :-पश्चिम बंगाल में हिंसा के बाद चुनाव सख्त, नौ संसदीय क्षेत्रों में प्रचार बैन 

चुनाव आयोग का फैसला अनुचित, अनैतिक और राजनीतिक रूप से पक्षपाती

चुनाव के फैसले पर बुधवार को जताते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने चुनाव आयोग के फैसले अनुचित, अनैतिक और राजनीतिक रूप से पक्षपाती बताया है। आयोग ने पीएम मोदी की गुरुवार को अपनी दो रैलियां खत्म करने का समय दिया है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आरोप लगाया कि कोलकाता में गुंडों को बाहर से लाया गया था। उन्होंने भगवा पहनकर हिंसा की, जब बाबरी मस्जिद को ध्वस्त कर दिया गया था तब इसी तरह की हिंसा हुई थी।

मोदी आप जब अपनी पत्नी की देखभाल नहीं कर सकते, आप देश की देखभाल कैसे कर सकते हैं?

ममता बनर्जी ने कहा कि अमित शाह ने अपनी सभा के माध्यम से हिंसा करवाई और ईश्वर चंद्र विद्यासागर की प्रतिमा के साथ बर्बरता की गई, लेकिन मोदी ने आज इसके लिए खेद नहीं जताया। बंगाल के लोगों ने इसे गंभीरता से लिया है, अमित शाह के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए। पश्चिम बंगाल की सीएम कि नरेंद्र मोदी आप अपनी पत्नी की देखभाल नहीं कर सकते, आप देश की देखभाल कैसे कर सकते हैं?

ममता का आरोप भाजपा के अधीन चल रहा है चुनाव आयोग

ममता ने आरोप लगाया कि चुनाव आयोग भाजपा के अधीन चल रहा है। यह एक अभूतपूर्व निर्णय है। उन्होंने कहा कि मंगलवार को हिंसा अमित शाह की वजह से हुई थी। चुनाव आयोग ने उन्हें कारण बताओ नोटिस क्यों नहीं जारी किया या उन्हें बर्खास्त नहीं किया?

अमित शाह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर चुनाव आयोग को धमकी दी, क्या यह उसी का परिणाम है?

पश्चिम बंगाल की सीएम ममता ने कहा कि अमित शाह ने आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर चुनाव आयोग को धमकी दी, क्या यह उसी का परिणाम है? बंगाल डरा नहीं है। बंगाल को इसलिए निशाना बनाया गया, क्योंकि मैं मोदी के खिलाफ बोल रही हूं। मुख्यमंत्री ने कहा कि अमित शाह ने अपनी सभा के माध्यम से हिंसा की, ईश्वर चंद्र विद्यासागर की प्रतिमा के साथ बर्बरता की गई, लेकिन मोदी को आज उस पर तरस नहीं आया। बंगाल के लोगों ने इसे गंभीरता से लिया है, अमित शाह के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए।

Loading...
loading...

You may also like

आईएमए घोटाला: 23 जुलाई तक ईडी की हिरासत में मंसूर खान

Loading... 🔊 Listen This News कर्नाटक। बंगलूरू के