आठ नेशनल अवॉर्ड जीतने वाले निर्देशक मनमोहन महापात्रा का आज हुआ निधन

- in मनोरंजन, राष्ट्रीय
महमोहन महापात्रा का निधन
Loading...

नई दिल्ली। नेशनल अवॉर्ड जीतने वाले ओडिशा के मशहूर फिल्म निर्देशक मनमोहन महापात्रा (Manmohan Mahapatra) का निधन हो गया है। महापात्रा लंबे वक्त से अस्पताल में भर्ती थे जिसके बाद उन्होंने सोमवार को अंतिम सांस ली। महापात्रा ने 69 की उम्र में दुनिया को अलविदा कहा। महापात्रा को क्या बीमारी थी इसकी जानकारी सामने नहीं आई है। महापात्रा रीजनल सिनेमा (उड़िया) को ऊंचाइयों तक पहुंचाने वाले निर्देशक थे।

मनमोहन महापात्रा का निधन उड़िया सिनेमाजगत में बहुत बड़ी क्षति है। महापात्रा के निधन पर ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक (Naveen Patnaik) ने भी शोक व्यक्त किया। नवीन पटनायक ने शोक संदेश में कहा- ‘मैं महान फिल्ममेकर मनमोहन महापात्रा के निधन की खबर से बहुत दुखी हूं। सिनेमाजगत में उनका योगदान हमेशा याद किया जाएगा।’

महापात्रा के फिल्मी सफर की बात करें तो साल 1951 में उन्होंने एफटीआईआई पुणे से फिल्म मेकिंग का कोर्स किया। इसके बाद 1976 में ‘सीता राती’ फिल्म का निर्देशन किया। ‘सीता राती’ के लिए महापात्रा को सर्वश्रेष्ठ उड़िया फिल्म नेशनल फिल्म अवॉर्ड से नवाजा गया। बहुत ही कम लोग इस बात को जानते होंगे इस फिल्म में महापात्रा ने ऐसी कहानी दिखाई जिसने कई रूढ़िवादी दीवारों को तोड़ा।

महापात्रा को लगातार आठ नेशनल फिल्म अवॉर्ड मिले हैं। जिन फिल्मों के लिए मनमोहन महापात्रा को अवॉर्ड मिला वो फिल्में ‘निशिधा स्वप्ना’, ‘माझी पच्चा’, ‘नीरब झाड़ा’, ‘अग्नि बेना’, ‘क्लांता अपरान्हा’, ‘अन्धा दिगंता’, ‘किचि स्मृति किचि अनुभूति’ और ‘भीना समया’ हैं।

उड़िया फिल्मों के अलावा इन्होंने हिंदी फिल्म का भी निर्देशन किया। इस फिल्म का नाम ‘बिट्स एंड पीसेज’ है। इसमें नंदिता दास, राहुल बोस और दीया मिर्जा मुख्य भूमिका में थे। खास बात है कि मनमोहन महापात्रा ने रीजनल सिनेमा को अंतरराष्ट्रीय स्तर तक पहुंचाया। यहां तक कि कई फिल्मों को विदेशों में भी दिखाया गया।

Loading...
loading...

You may also like

Ambrane ने भारत में लॉन्च किया नया ‘फायरबूम’ ब्लूटूथ स्पीकर

Loading... 🔊 Listen This News नई दिल्ली। इलेक्ट्रॉनिक