मृतकों के परिजनों को 7-7 लाख का मुआवजा, मनोज सिन्हा ने कहा- रेलवे की गलती नहीं

मनोज सिन्हामनोज सिन्हा

अमृतसर। अमृतसर में हुए रेल हादसे के बाद रेल रात रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा घटनास्थल पर पहुंचे। उन्होंने कहा कि हमने घटनास्थल का निरीक्षण किया है। रेल प्रशासन राहत कार्य में हरसंभव सहयोग प्रदान कर रहा है। यह समय राजनीति करने का नहीं है। प्राथमिकता यह होनी चाहिए कि घायलों को अच्छी से अच्छी चिकित्सा सुविधा प्रदान की जाए। घटनास्थल पर पहुंचे मनोज सिन्हा ने कहा, ‘यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण घटना है। सूचना पाते ही हमारी राहत टीम यहां पहुंच गई थी। पूरा रेलवे प्रशासन घायलों को बेहतर से बेहतर इलाज देने में जुटा हुआ है। इसके अलावा भारत सरकार की टीमें भी इसमें लगी हुई हैं।’

मनोज सिन्हा सबसे पहले घटना स्थल पर पहुंचे

इस दौरान एक प्रेस कांफ्रेंस करते हुए रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने कहा, ‘यह विषय राजनीति का नहीं है, मृतकों के प्रति हमारी गहरी संवेदना है। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन, जनरल मैनेजर नॉर्दन रेलवे समेत कई बड़े अधिकारी मौके पर हैं। हमारे पास मौजूद संसाधनों को यहां लगाया गया है।’ मंत्री ने कहा कि रेलवे दुर्घटनास्थल पर हर संभव सहायता पहुंचा रहा है।  साथ ही उन्होंने कहा कि कार्यक्रम के बारे में रेलवे को कोई जानकारी नहीं दी गयी थी, ना ही किसी तरह की अनुमति ली गयी थी। इसलिए घटना के लिए रेलवे की कोई जिम्मेदारी नहीं है। ट्रैक के बगल में इस तरह का कार्यक्रम आयोजित किया गया और रेलवे को किसी प्रकार की सूचना नहीं दी गई। अगर सूचना रहती तो हम पहले से इससे संबंधित निर्देश जारी करते।

ये भी पढ़ें : अमृतसर घटना : कांग्रेस नेता सिद्धू ने कहा- यह हादसा नहीं, एक प्राकृतिक आपदा 

वहीं रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट किया,  शोकसंतप्त और घायल लोगों को ईश्वर शक्ति प्रदान करें। रेलवे घटनास्थल पर सभी संभव सहायता पहुंचा रहा है। मैंने अमेरिका में अपने सभी कार्यक्रमों को रद्द कर दिया है और तत्काल भारत लौट रहा हूं। हादसे में मारे गये लोगों के परिजनों को केंद्र सरकार ने 2-2 लाख रुपये के मुआवजा देने की घोषणा की है। वहीँ राज्य सरकार ने 5-5 लाख मुआवजा देने की बात की है। घयलों को 50-50 हजार दिए जायेंगे। इस घटना पर प्रधानमंत्री मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद समेत कई हस्तियों ने दुःख जताया है।

loading...
Loading...

You may also like

भगवान हनुमान और अम्बेडकर प्रतिमा हटाये जाने पर ग्रामीण हुए उग्र

लखनऊ। माल इलाके में बिना परमीशन के पंचायत