ऑटो कंपनियां दे रही हैं नई कार लीज पर लेने का विकल्प

Loading...
Hyundai Creta (Photo : CarDekho)

 वाहन                      महीने का किराया
हुंड्ई क्रेटा                        17,642 रुपये
महिंद्रा एसयूवी500           41,310 रुपये
ई-स्कूटर अथर450            2500 रुपये

विदेशी बाजारों में 30 फीसदी हिस्सेदारी 
वर्तमान में कार लीजिंग व्यवसाय की हिस्सेदारी भारतीय ऑटो बाजार में एक फीसदी से भी कम है। अभी यह कारोबार कॉर्पोरेट सेक्टर तक ही सीमित है। वहीं अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी और फ्रांस जैसे विकसित बाजारों में कार लीजिंग का हिस्सेदारी 30% से अधिक है। वैश्विक स्तर पर बीएमडब्ल्यू, मर्सिडीज और पोर्श जैसे लक्जरी कार निर्माता कंपनी भी लीज पर कार देती है।

इंश्योरेंस, डैमेंज समेत सारी जिम्मेदारी कंपनी की
कंपनियां गाड़ियों को लीज पर देने के साथ ही उसका इंश्योरेंस भी कराएगी। साथ ही गाड़ी के रखरखाव की जिम्मेदारी कंपनी की होगी। महिंद्रा की गाड़ी अगर आप इस योजना के तहत लेते हैं और अगर वाहन दुर्घटनाग्रस्त हो जाता है, तो कंपनी 24 घंटे के भीतर वाहन दूसरा वाहन उपलब्ध कराएगी।

तेजी से रेंटल कार की बढ़ रही है मांग 
ऑटो विशेषज्ञों का कहना है कि ईएमआई और डाउन पेमेंट से छुटकारा के साथ रीसेल में एक पैसे का नुकसान नहीं होने से लीज पर कार लेने वालों की संख्या तेजी से बढ़ी है। लीज पर कार लेने में सबसे ज्यादा कॉरपोरेट में नौकरीपेशा में लगे कर्मी, डॉक्टर, सीए आदि हैं।

निजी कंपनियां भी दे रही हैं सेवाएं 
नई कार लीज पर देने में ऑटो कंपनियों के साथ कई निजी कंपनियां भी बाजार में है। जूमकार, माईलीजकार, सेल्फड्राइव जैसी कंपनियां दिन, महीने या एक या दो साल के लिए रेंट पर कार उपलब्ध करा रही है। ये कंपनियां नई के साथ इस्तेमाल हुई कार को भी रेंट पर दे रही हैं।

Loading...
loading...

You may also like

Asus लाया 120Hz AMOLED डिस्प्ले और 6000mAh की बैटरी वाला ‘दुनिया का पहला’ फोन

Loading... 🔊 Listen This News नई दिल्ली। Asus ने