ख़ास खबरराष्ट्रीयशिक्षा

17 फरवरी से शुरू होगी मैट्रिक परीक्षा, 17 से ही हड़ताल पर जाएंगे शिक्षक

पटना। बिहार के शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा ने हड़ताल पर अड़े नियोजित शिक्षकों से बच्चों के भविष्य का हवाला देते हुए परीक्षा एवं समय पर मूल्यांकन की अपील की है। गौरतलब है कि नियोजित शिक्षकों के संयुक्त मोर्चा ने 17 फरवरी से वेतन व सेवाशर्त की मांग पर हड़ताल पर जाने का एलान कर रखा है। माध्यमिक शिक्षक संघ ने भी 24 फरवरी से आंदोलन की घोषणा कर रखी है।

शुक्रवार को शिक्षा मंत्री श्री वर्मा ने शिक्षकों के नाम अपील जारी कर कहा कि 17 फरवरी से बिहार में मैट्रिक परीक्षा है। परीक्षा समिति ने महीनों पूर्व परीक्षा कार्यक्रम की सूचना प्रकाशित की थी और बिहार के 15 लाख बच्चे अपने बेहतर भविष्य के लिए इस परीक्षा में शामिल होने वाले हैं। इंटर की परीक्षा हो चुकी है और शीघ्र मूल्यांकन कराकर रिजल्ट ससमय देना है। शिक्षकों एवं सरकार का दायित्व है कि समय पर बच्चों की परीक्षा हो, समय पर मूल्यांकन और शीघ्र रिजल्ट प्रकाशित हो। श्री वर्मा ने कहा कि विभिन्न माध्यमों से सूचना मिल रही है कि कुछ शिक्षक संगठन मैट्रिक परीक्षा के समय एवं इंटर के मूल्यांकन के समय हड़ताल करने वाले हैं। वे अपनी मांग मनवाने के लिए मैट्रिक परीक्षा तथा इंटर के मूल्यांकन में बाधा पहुंचाना चाहते हैं। कहा कि लाखों बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ की अनुमति किसी को नहीं दी जा सकती है।

तैनात किए गए 32 मजिस्ट्रेट

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की 17 फरवरी से होने वाली वार्षिक माध्यमिक परीक्षा 2020 को देखते हुए डीएम कुमार रवि ने 32 मजिस्ट्रेट की तैनाती की है। मैट्रिक की परीक्षा 17 से 24 फरवरी तक पटना के कई केंद्रों पर आयोजित की जाएगी। परीक्षा को देखते हुए एसडीओ सदर तनय सुल्तानिया ने धारा-144 लागू कर दी है। परीक्षा केंद्र के दो सौ मीटर की परिधि में धारा-144 लागू रहेगी।

एसडीओ सदर तनय सुल्तानिया की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि 17 फरवरी से पहली पाली सुबह साढ़े नौ बजे से अपराह्न 12.45 बजे तथा द्वितीय पाली अपराह्न 1.45 से शाम पांच बजे तक आयोजित होगी। निषेधाज्ञा लागू होने के बाद पांच या पांच से अधिक व्यक्तियों का गैर कानूनी जमाव, कोई भी प्रदर्शन या जुलूस, हथियार के अलावा धरना, घेराव या किसी प्रकार का आग्नेयास्त्र लेकर चलना, गोली बारूद, विस्फोटक सामग्री के अलावा फरसा, गंड़ासा, भाला, छुरा या अन्य किसी भी प्रकार के घातक अस्त्र-शस्त्र लेकर चलने पर पाबंदी लगा दी गई है। बिना अनुमित के लाउडस्पीकर बजाना भी प्रतिबंधित होगा। परीक्षा हॉल के अंदर मोबाइल एवं सेलूलर फोन रखना एवं इसका इस्तेमाल करना भी प्रतिबंधित कर दिया गया है। परीक्षा केंद्र के दो सौ मीटर परिधि में जेरौक्स, प्रिंटर मशीन या साइबर कैफे आदि की दुकानें बंद रहेंगी।

प्राथमिक व मध्य स्कूलों के प्राचार्य व शिक्षक बने वीक्षक

राज्यभर के लगभग चार लाख नियोजित शिक्षकों की हड़ताल की घोषणा को देखते हुए बिहार बोर्ड की मैट्रिक परीक्षा में प्राथमिक और मध्य स्कूलों के प्राचार्य और शिक्षकों को वीक्षक नियुक्त किया गया है। नियोजित शिक्षकों ने 17 फरवरी से अनिश्चिकालीन हड़ताल पर जाने की घोषणा की है। ऐसे में मैट्रिक परीक्षा बाधित न हो, इसके लिए अब प्राथमिक और मध्य विद्यालय के शिक्षक और प्राचार्य वीक्षक (निरीक्षण करने वाला) के रूप में रहेंगे। बिहार बोर्ड द्वारा मैट्रिक परीक्षा की तैयारी अंतिम चरण में है। परीक्षा के लिए कंट्रोल रूम 16 फरवरी से काम करने लगेगा। बोर्ड की मानें तो कंट्रोल रूम 24 फरवरी तक 24 घंटे तक कार्यरत रहेगा। परीक्षा संचालन में कोई समस्या होने पर समिति के कंट्रोल रूम से संपर्क किया जा सकता हैं। इसके लिए 612-2230009 तथा फैक्स नंबर 612-2222575 जारी किया गया है।

अपील

  • मंत्री ने हड़ताल पर अड़े शिक्षकों को दिया बच्चों के भविष्य का हवाला
  •  कहा, बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ की नहीं दी जा सकती है इजाजत

परीक्षा संचालन में समस्या आने पर दें सूचना

फोन : 612-2230009 फैक्स : 612-2222575

loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.