लोक कल्याण मित्र नियुक्ति पर मायावती का भाजपा पर बड़ा हमला

लोक कल्याण मित्र
Please Share This News To Other Peoples....

लखनऊ। बसपा सुप्रीमो मायावती ने योगी सरकार के लोक कल्याण मित्र नियुक्त करने के फैसले पर सवाल उठाते हुए इसे जनता के धन का दुरुपयोग बताया है। उन्होंने शनिवार को बयान जारी कर मायावती ने कहा कि प्रदेश के सरकारी विभागों में हजारों पद खाली पड़े पदों को भरने की जगह लोक कल्याण मित्रों की नियुक्ति कर अपने चहिते लोगों को खुश करने की कोशिश कर रही है। जो कि सरकारी धन का दुरुपयोग है। साथ ही उन्होंने कहा कि ससे साबित होता है कि भाजपा अब अपने और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कैडर को मुर्दा मान चुकी है।

लोक कल्याण मित्र नियुक्ति को लेकर मायावती का बड़ा हमला

बता दें कि मंगलवार को हुई योगी सरकार की कैबिनेट बैठक में सरकारी योजनाओं के प्रचार-प्रसार व फीडबैक के लिए ब्लॉक स्तर पर लोक कल्याण मित्रों की नियुक्ति के प्रस्ताव को मंजूरी दी गयी। जिस पर मायावती ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि सबसे पहले यह सरकार की विफलता है कि सरकारी खजाने के अरबों रुपये प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व डिजिटल मीडिया पर खर्च करने के बावजूद लोगों को सरकार की योजनाओं की जानकारी नहीं है। जिसके कारण जरुरतमंद लोगों को योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है।

बसपा सुप्रीमो ने आगे कहा कि इन लोक कल्याण मित्रों को शहरी क्षेत्रों में 30 हजार रुपये व ग्रामीण क्षेत्रों में 25 हजार रुपये वेतन के साथ ही पांच हजार रुपये यात्रा भत्ता भी दिया जाएगा और केवल कुछ चहिते लोगों को वक्ती तौर पर तुष्टिकरण करने का उपाय मात्र ही है।

लोक कल्याण मित्र नियुक्ति दर्शाती है जनता की नाराजगी

इस दौरान यूपी की पूर्व सीएम मायावती ने कहा कि लोक कल्याण मित्रो की नियुक्ति का फैसला से यह बात भी साबित होती है कि प्रदेश और देश की जनता अब भाजपा के शीर्ष नेतृत्व को न तो सुनना पसंद कर रही है और न ही उनकी बातों पर कोई भरोसा करता है। उन्होंने आगे कहा कि योगी सरकार खाली पड़े हजारों पदों को भरकर युवकों को रोजगार देने की कोई व्यवस्था नहीं कर रही है जोकि बहुत जरुरी है।

गौरतलब है कि योगी आदित्यनाथ सरकार की मंत्रिपरिषद ने गत मंगलवार को अपनी तमाम योजनाओं के प्रचार-प्रसार के लिए प्रदेश के हर विकास खण्ड में एक ‘लोक कल्याण मित्र‘ की नियुक्ति करने के प्रस्ताव को हरी झंडी दी थी।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *