तीन तलाक पर मायावती बोली- मुद्दों को हिंदू-मुस्लिम की तरफ भटकाने की कोशिश

तीन तलाक

लखनऊ। तीन तलाक बिल को राज्यसभा में पास करवाने में असफल रही मोदी सरकार ने इसके लिए अध्यादेश लाने का फैसला किया है। साथ ही इस अध्यादेश को राष्ट्रपति की मंजूरी भी मिल गयी है। वहीं विपक्षी दलों की तरफ से इस अध्यादेश को लेकर प्रतिक्रिया आनी शुरू हो गयी है। इस क्रम में बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि ये अध्यादेश लोगों का ध्यान हिंदू-मुस्लिम की तरफ भटकाने की कोशिश है।

तीन तलाक अध्यादेश पर मायावती का पूरा बयान

बसपा सुप्रीम मायावती ने तीन तलाक के अध्यादेश मुद्दे पर कहा कि भाजपा इस प्रकार के संवेदनशील मुद्दों पर भी स्वार्थ की राजनीति कर रही है। वह चुनाव के समय लोगों का ध्यान अपनी कमियों से हटाना चाहती है। उन्होंने कहा कि अगर ऐसा नहीं होता तो इस मामले में कानून बनाने से पहले इस पर विचार विमर्श के लिए विधेयक को संसदीय समिति में भेजने की मांग केंद्र सरकार ने जरूर मांग ली होती।

पढ़ें:- लखनऊ : SC/ST एक्ट के खिलाफ ब्राह्मण महासभा ने अद्र्धनग्न होकर किया प्रदर्शन

आरएसएस पर बसपा सुप्रीम का हमला

वहीं आरएसएस द्वारा आयोजित संवाद कार्यक्रम पर मायावती ने हमला बोलते हुए कहा कि यह राजनीति से प्रेरित था जिससे चुनावों के समय भाजपा की सरकारों की कमियों व विफलताओं के साथ ही गरीबी, महंगाई, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार से लोगों का ध्यान हटाया जा सके।

बसपा ने कहा कि जनाक्रोश से आरएसएस का चिंतित होना स्वाभाविक भी है क्योंकि उद्योगपतियों की तरह आरएसएस ने भी भाजपा की जीत के लिए सब कुछ दांव पर लगा दिया था। अब भाजपा सरकार की कमियों व​ विफलताओं से जनाक्रोश का सामना करना पड़ रहा है।

loading...
Loading...

You may also like

उत्तर प्रदेश शिक्षक भर्ती की रेस से होंगे बाहर 67,000 आवेदक

इलाहाबाद। उत्तर प्रदेश के सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों