बदली रणनीति के तहत बसपा 2019 में इस फॉर्मुले पर लड़ेगी लोकसभा चुनाव

बसपा

लखनऊ। बसपा 2019 के लोकसभा चुनाव में जमीनी स्‍तर पर रणनीति पर काम कर रही है। पार्टी कार्यकर्ता मायावती  को ‘ प्रधानमंत्री की कुर्सी पर देखना चाहते हैं , लेकिन 2019 के चुनावों से पहले संभावित गठबंधन की दिशा में प्रधानमंत्री के पद की महत्‍वाकांक्षा मायावती और उनकी पार्टी का रुख तय करेगा। यही रणनीति राजस्‍थान, मध्‍य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनावों के लिए भी अपनाई जाएगी।

बसपा बोली पार्टी का वोट शेयर उत्‍तर प्रदेश व कई अन्‍य राज्‍यों में बरकरार रहा है और इसे सीटों में बदलने की जरूरत

इस बारे में विरोधियों का कहना है कि जिस पार्टी के पास लोकसभा में अभी एक भी सीट नहीं है उसके लिए प्रधानमंत्री पद की महत्‍वाकांक्षा रखना दूर की कौड़ी है, लेकिन बसपा नेता इस तर्क को खारिज करते हैं। नाम न छापने की शर्त पर एक पार्टी के वरिष्‍ठ नेता ने बताया कि पार्टी का वोट शेयर उत्‍तर प्रदेश व कई अन्‍य राज्‍यों में बरकरार रहा है और इसे सीटों में बदलने की जरूरत है।
बसपा नेता के अनुसार, ‘2014 में पार्टी को भले ही लोकसभा सीट नहीं मिली ,लेकिन उसे यूपी में 19.8 प्रतिशत वोट मिले थे। इसी तरह मध्‍य प्रदेश और उत्‍तराखंड में साढ़े चार फीसदी वोट आए थे। कर्नाटक, पंजाब, दिल्‍ली, राजस्‍थान और छत्‍तीसगढ़ में भी बसपा को ठीक ठाक वोट मिले थे।

ये भी पढ़ें :-मिशन 2019 : BSP सम्मेलन में गूंजे ‘मिले मुलायम-कांशीराम’ के नारे 

मायावती ने 2014 की विफलता को पीछे छोड़कर 2019 में महत्‍वपूर्ण ताकत बनने का इशारा

कर्नाटक सरकार के शपथ ग्रहण कार्यक्रम में सोनिया गांधी के साथ घनिष्‍ठता दिखाने के बाद मायावती ने 2014 की विफलता को पीछे छोड़कर 2019 में महत्‍वपूर्ण ताकत बनने का इशारा माना जा रहा  है। अब उन्‍हें लगता है कि अगर वह अपनी चालें सही तरह से चलेंगी तो वह राष्‍ट्रीय स्‍तर पर बड़ी खिलाड़ी बनकर उभर सकती हैं। भारतीय राजनीति में दलितों के सबसे बड़े नेताओं में से एक होना और प्रशासक के रूप में जोरदार तजुर्बा मायावती के पक्ष में जाता है। 2019 में अपने लक्ष्‍य को हासिल करने के लिए बसपा ने दो तरह की रणनीति अपनाई है। इसके तहत बसपा सावधानी से गठबंधन पर काम कर रही है और कांग्रेस व संभावित क्षेत्रीय दलों को खुश रख रही है। साथ ही खुद को विपक्षी महागठबंधन के शिल्‍पकार के रूप में भी स्‍थापित करना चाहती है।

जैसे रावण को राम, कंस को कृष्‍ण ने मारा था वैसे ही मोदी को मायावती हराएंगी

इसी क्रम में सोमवार को लखनऊ में पार्टी के बड़े कार्यकर्ताओं की बैठक में बसपा की यह रणनीति साफ नजर आई। इस बैठक में मायावती मौजूद नहीं थी,लेकिन उनका संदेश भरोसेमंद नेताओं के जरिए भेज दिया गया। बैठक को संबोधित करते हुए पार्टी के राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष जय प्रकाश सिंह ने कहा, ‘पार्टी एक निश्चित रणनीति पर काम कर रही है। पूरा देश बहनजी को प्रधानमंत्री के रूप में देखना चाहता है।’
उन्‍होंने आगे कहा कि जैसे रावण को राम, कंस को कृष्‍ण ने मारा था वैसे ही मोदी को मायावती हराएंगी। सिंह ने साथ ही कहा कि विपक्षी एकता मायावती के इर्द-गिर्द हो रही है और बेंगलुरु में एचडी कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण कार्यक्रम की तस्‍वीर इस बात को पूरी तरह से पेश करती है।

बड़ी ही चतुराई से मायावती ने प्रधानमंत्री पद के लिए अपनी महत्‍वाकांक्षा को स्‍थापित करना  किया शुरू

मायावती ने बड़ी ही चतुराई से प्रधानमंत्री पद के लिए अपनी महत्‍वाकांक्षा को स्‍थापित करना शुरू किया है। यही वजह है कि वह उत्‍तर प्रदेश और इसके बाहर गठबंधन पर गंभीरता से विचार कर रही हैं। वह न केवल यूपी में अपनी पार्टी के विस्‍तार देना चाहती है बल्कि लोकसभा में भी मजबूत ताकत बनाना चाहती हैं। वह कांग्रेस और गैर एनडीए दलों के साथ भी घनिष्‍ठता बनाए रखना चाहती हैं।

loading...
Loading...

You may also like

सरेराह दो युवकों के अपरहण की सूचना से हलकान रही पुलिस

लखनऊ। राजधानी के हाई सिक्योरिटी जोन में स्थित