अक्षयपात्र योजना को लेकर मोदी पर बरसे सपा अध्यक्ष

अखिलेश यादवअखिलेश यादव

लखनऊ। पीएम नरेंद्र मोदी सोमवार यानी आज को वृंदावन में अक्षय पात्र फाउंडेशन के कार्यक्रम में वंचित वर्ग के स्कूली बच्चों को खाना खिलाया। इसी को लेकर सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व सीएम  अखिलेश यादव ने ट्वीट करते हुए तंज कसा है। अखिलेश यादव ने ट्वीट करते हुए लिखा कि सपा के समय लखनऊ से शुरू हुई व उप्र में अन्य जगह प्रस्तावित ‘अक्षयपात्र योजना’ का श्रेय लेने के लिए बड़े-बड़े लोग आ रहे हैं।

ये भी पढ़े :-यूपी और उत्तराखंड में जहरीली शराब से मौत पर बोली प्रियंका, सरकार करे कठोर कार्रवाई 

अगर ये योजना उनकी अपनी है तो वो अपने ‘प्रधान संसदीय क्षेत्र’ में इसका आयोजन क्यों नहीं कर रहे हैं। ये दूसरों की थाली पर अपना हक जमाने वाले लोग हैं। ट्वीट करते हुए अखिलेश यादव ने अक्षयपात्र योजना की शुरुआत करने के दौरान ली गई तस्वीरें भी पोस्ट की हैं। इन तस्वीरों में अखिलेश अक्षयपात्र के कार्यक्रम का उद्घाटन करते, खाना परोसते और बच्चों को खाना खाते देख रहे हैं। अक्षयपात्र फाउंडेशन की ओर से 3 अरबवीं थाली परोसे जाने के अवसर पर सोमवार को कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। सोमवार को पीएम नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, मैं अक्षय पात्र फाउंडेशन द्वारा 3अरबवीं थाली परोसे जाने के अवसर पर वृंदावन में एक अनूठे कार्यक्रम में शामिल होऊंगा।

ये भी पढ़ें :-जमीनी नेताओं को आगे बढ़ाना है, चुनाव जीत कर दिखाना है-राहुल 

उन्होंने ट्वीट किया, इस अभियान से जुड़े सभी लोगों को बधाई। भूखे लोगों को खाना खिलाने के उनके प्रयास अनुकरणीय है। अक्षय पात्र के अधिकारी ने बताया कि संस्था ने 2012 में 1 अरबवीं और 2016 में 2 अरबवीं थाली परोसी थी। नरेंद्र मोदी के ट्वीट के बाद समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट किया। अखिलेश ने बिना पीएम का नाम लिखे उन्हें बड़े-बड़े लोग बताया और लिखा कि उनकी सरकार की योजना का श्रेय लेने बड़े-बड़े लोग आ रहे हैं। सपा के समय लखनऊ से शुरू हुई व उप्र में अन्य जगह प्रस्तावित ‘अक्षयपात्र योजना’ का श्रेय लेने के लिए बड़े-बड़े लोग आ रहे हैं। अगर ये योजना उनकी अपनी है तो वो अपने ‘प्रधान संसदीय क्षेत्र’ में इसका आयोजन क्यों नहीं कर रहे हैं।

 

 

Loading...
loading...

You may also like

गेंहू क्रय केंद्रों का निरीक्षण तो बहाना है, इरादा तो लुम्बिनी में घूमना है

🔊 Listen This News सिद्धार्थनगर। किसानों के लिए