बीजेपी के दिग्गज नेता का आरोप- मोदी सरकार नहीं दे रही है ईमानदार अफसरों को प्रमोशन

ईमानदार अफसरोंईमानदार अफसरों

नई दिल्ली। मोदी सरकार ईमानदार अफसरों की उपेक्षा कर रही है। एक विशिष्ट प्रक्रिया के जरिए ईमानदार अफसरों को पदोन्नति से रोकने की कोशिश हो रही है। यह आरोप बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने अपनी ही सरकार पर लगाया है। इसके लिए सुब्रमण्यम स्वामी ने प्रधानमंत्री से हस्तक्षेप की मांग की है।

ईमानदार अफसरों को 360 डिग्री परीक्षण फार्मूला  दूर कर रही है प्रमोशन से

बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने गुरुवार को ट्वीट कर लिखा कि प्रधानमंत्री की नौकरशाही 360 डिग्री परीक्षण फार्मूला की खराब प्रक्रिया से ईमानदार अफसरों को प्रमोशन से दूर कर रही है। जबकि योग्यता ही एकमात्र क्राइटेरिया होनी चाहिए।   स्वामी ने  कहा कि इस विध्वंसक प्रक्रिया को खत्म करने के लिए प्रधानमंत्री को लिखूंगा।

ये भी पढ़ें :-राहुल बोले मेरा चैलेंज स्वीकारें मोदी घटाएं पेट्रोल-डीजल के दाम 

360 डिग्री फीडबैक प्रोग्राम के फेल होने के पीछे सात कारण गिनाए

उनके इस ट्वीट पर विपुल सक्सेना नामक पूर्व पायलट ने भी समर्थन किया और कहा कि 360 डिग्री प्रोफाइलिंग अब वैश्विक स्तर से चलन से बाहर हो चुकी है। वजह कि स्कोर अर्जित करने के इसके टूल्स पर सवाल उठते हैं। इस पर सुब्रमण्यन स्वामी ने विपुल से कहा-क्या कोई आर्टिकल इस बाबत छपा है, जिस पर विपुल ने फोर्ब्स का एक आर्टिकलस शेयर किया, जिसमें 360 डिग्री फीडबैक प्रोग्राम के फेल होने के पीछे सात कारण गिनाए गए।

मोदी सरकार अफसरों की तैनाती और प्रमोशन में 360 डिग्री परीक्षण फार्मूला लागू किया

बतातें चलें कि नरेंद्र मोदी सरकार ने केंद्र में अफसरों की तैनाती और प्रमोशन में 360 डिग्री परीक्षण फार्मूला लागू किया है। इसके तहत सरकारी सेवा में आने के बाद से संबंधित अधिकारी के कार्य करने के तौर-तरीकों, अधीनस्थों के प्रति व्यवहार, नेतृत्व क्षमता, ईमानदारी आदि का एक स्वतंत्र समिति परीक्षण करती है। फिर यह समिति अपनी रिपोर्ट कैबिनेट समिति को देती है। जिसके आधार पर अधिकारियों की तैनाती और प्रमोशन का फैसला होता है। मगर इस सिस्टम का अंदरखाने विरोध शुरू हो रहा है। कुछ अफसरों के मुताबिक 360 डिग्री परीक्षण व्यवस्था में कुछ टूल्स के जरिए अंक प्रदान किए जाते हैं। मगर इसमें पारदर्शिता संदेह के घेरे में होती है।

loading...
Loading...

You may also like

निकाय चुनाव : दक्षिणी कश्मीर में भाजपा, तो लेह में कांग्रेस ने लहराया परचम

श्रीनगर। दक्षिण कश्मीर के आतंक प्रभावित चार जिलों