दीवालिया होगी मोदी की कंपनी, फायरस्टार डायमंड इंक ने बैंकरप्सी कोर्ट में किया आवेदन

फायरस्टार डायमंड इंकफायरस्टार डायमंड इंक

दिल्ली। भारत के सबसे बड़े बैंकिग घोटाले के आरोपी नीरव मोदी की कंपनी को दिवालिया कार्यवाही करने के लिए फायरस्टार डायमंड इंक ने सोमवार को आवेदन न्यूयॉर्क के बैंकरप्सी कोर्ट में दिया है। इसकी वजह लिक्विडिटी और सप्लाई की समस्या बताया है। पंजाब नेशनल बैंक से मेहुल चोकसी और नीरव मोदी पर 12400 करोड़ का धोखाधड़ी का आरोप लगा है। इतने बड़े घोटाले के सामने आने के बाद नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के एकाउंट  भारत सभी बैंक से बन कर दिए गये है। मामा भांजे के सभी स्टोर्स पर छापे मारकर करीब 6,000 करोड़ रुपए के हीरे, सोना और ज्वैलरी जब्त किए गए हैं।

फायरस्टार डायमंड इंक ने बैंकरप्सी में किया आवेदन

भारत के सबसे बड़े बैंकिग घोटाले के आरोपी नीरव मोदी की कंपनी को दिवालिया कार्यवाही करने के लिए फायरस्टार डायमंड इंक ने बैंकरप्सी आवेदन में फायरस्टार की दोसहयोगी कंपनियों के भी नाम भी बताया है। इन कंपिनयों के नाम ए। जैफे इंक और फैंटासी इंक है। अबेदन में कंपनी पर 325 करोड़ से 650 करोड़ रुपए की देनदारी बताई गयी है। सभी लेंनदारो की सख्या 50 से 99 तक है। फायरस्टार डायमंड का हीरा कारोबार अमेरिका के अलावा यूरोप और मध्य पूर्व देशों में भी फैला है
ये भी पढ़े :दो Exit-Poll के मुताबिक त्रिपुरा-नागालैंड-मेघालय में बन रही है इस पार्टी की सरकार 

पंजाब नेशनल बैंक से धोखाधड़ी करने वाले नीरव मोदी ने 1999 में हीरा सप्लायर के तौर पर फायरस्टार डायमंड कंपनी खोली। कंपनी ने 2001 में ज्वैलरी मैन्युफैक्चरिंग शुरू के दी। फ्रेडरिक गोल्डमैन नाम की एक डायमंड ज्वैलरी कंपनी को खरीदकर यह कम्पनी अमेरिका में मार्किट में उतरी थी। 2009 में बेल्जियम में  इसका बिस्तार करते हुए इसकी एक यूनिट और खोली गई। 2010 में नीरव मोदी अल्ट्रा-लक्जरी डायमंड ज्वैलरी ब्रांड लांच किया। पीएनबी घोटाले के बाद बैंक डायमंड और ज्वैलरी से जुड़े सभी अकाउंट की जांच कर रहे हैं। वे यह तहकीकत भी कर रहे हैं कि ज्वैलर राउंड ट्रिपिंग तो नहीं कर रहे।



loading...

You may also like

पश्चिम बंगाल में भाजपा हिंसात्मक प्रदर्शन, बसों में की तोड़-फोड़

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में पुलिस से झड़प में