लोकसभा चुनाव: मोदी के मंत्री ने मायावती से गठबंधन के लिए बढ़ाया हाथ

लोकसभा चुनावलोकसभा चुनाव

नई दिल्ली। यूपी में बसपा सपा के गठबंधन के बाद बीजेपी और उसके नेता काफी परेशान दिख रहे हैं। बीजेपी की तरफ से बार-बार गठबंधन पर असर डालने वाले बयान दिए जा रहे हैं। वहीं अब मोदी सरकार के केन्द्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्यमंत्री और रिपब्लिकन पार्टी ऑफ़ इंडिया(आरपीआई) के संयोजक रामदास अठावले ने बड़ा बयान दिया है। उनका कहना है कि वो अभी से योजना बना रहे हैं कि जरूरत पड़ी तो बीजेपी की सरकार बनाने के लिए मायावती से बातचीत को तैयार हैं। उनके इस बयान से साफ़ जाहिर होता है कि लोकसभा चुनाव में सपा-बसपा गठबंधन काफी असर डालने वाला है।

पढ़ें:- कर्नाटक चुनाव : जोड़-तोड़ की राजनीति शुरू, कांग्रेस के कई MLA बीजेपी में हो रहे हैं शामिल 

बता दें कि केंद्र में सरकार बनाने के लिए यूपी से ज्यादा से ज्यादा सीटें जरूरी हैं। 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने 80 में से 71 सीटें जीती थीं।

लोकसभा चुनाव में यूपी बेहद अहम

जैसे-जैसे लोकसभा चुनाव नजदीक आता जा रहा है वैसे-वैसे एनडीए के सहयोगी उसका साथ छोड़ते जा रहे हैं। वहीं यूपी में बसपा-सपा का गठबंधन बीजेपी और उसके नेताओं के लिए बड़ा सिरदर्द बना हुआ है। सपा और बसपा के मिल जाने से यूपी में वोटों का अंकगणित बदल गया है। दोनों पार्टियों का वोटबैंक बीजेपी पर भारी पड़ता दिखाई दे रहा है। इसका नतीजा गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव में देख जा चुका है।

पढ़ें:- अमित शाह के माना करने पर भी एम्स लालू से मिला मोदी का मंत्री, राजद में होंगे शामिल! 

वहीं राज्यसभा चुनाव में मिली 9वीं सीट पर हार के बाद मायावती ने खुलकर ऐलान किया है। सपा-बसपा का गठबंधन अटूट है और यह 2019 तक जारी रहेगा। बीजेपी की कोशिश है कि यह गठबंधन किसी तरह से न होने पाए। फिलहाल बीजेपी इस कोशिश में सफल होते नहीं दिखाई दे रही है।

गठबंधन का पड़ेगा असर, मोदी की लहर अभी  है कायम

रामदास अठावले ने कहा कि अगर सपा और बसपा का गठबंधन होता तो 2019 के आम चुनावों में भाजपा की सीटों की संख्या कुछ कम हो सकती है। अठावले ने वीवीआईपी गेस्ट हाउस में  कहा कि गठबंधन के असर से भाजपा की सीटों की संख्या प्रदेश में 50 या इससे एक दो अधिक रह सकती है। उन्होंने कहा कि देश में नरेन्द्र मोदी की लहर अभी कायम है । उन्होंने दावा किया कि फिर से एनडीए की ही सरकार बनेगी और  मोदी ही प्रधानमंत्री बनेगे ।

तीसरे मोर्चे के गठन से एनडीए को ही होगा फायदा

गैर भाजपा और कांग्रेस के तीसरे मोर्चे के गठन से एनडीए को ही फायदा होगा। उन्होंने कहा कि अगर उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा का गठबंधन से हुए नुकसान की भरपाई पूर्वोत्तर राज्यों से हो जायेगी । उन्होंने कहा कि तीसरे मोर्चे के पास मोदी के बराबर कोई नेता नहीं है ।
श्री अठावले ने कहा कि जिस तरह से दलितों के हितों को ध्यान में रखते हुए वह और रामविलास पासवान एनडीए में शामिल हुए। इसी तरह मायावती को भी दलितों के हित को ध्यान में रखकर एनडीए में आना चाहिए । उन्होंने कहा का लोकसभा चुनाव में भाजपा, बसपा और आरपीआई का गठबंधन होता है तो कांगेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी अपनी सीट हार सकते हैं। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चन्द्रबाबू नायडू द्वारा एनडीए छोड़ने पर उन्होंने कहा कि उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए था।

loading...
Loading...

You may also like

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के जन्मदिन पर कार्यकर्ताओं ने केक काटकर दीं बधाई

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष