मनी लांड्रिंग : ईडी ने नलिनी चिदंबरम को भेजा समन

नलिनीनलिनी

नई दिल्ली। सारधा पोंजी घोटाले में मनी लांड्रिंग की जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम की पत्नी नलिनी चिदंबरम को फिर से समन भेजा है और कहा कि वह कोलकाता स्थित ईडी कार्यालय में आकर मामले में अपनी गवाही दें। अधिकारियों ने बताया कि नलिनी को ईडी के कोलकाता कार्यालय में 20 जून को तलब किया गया है। इस लिए उन्हें समन भेजा गया है। एक अधिकारी ने बताया कि इससे पहले उन्हें सात मई को हाजिर होने के लिए समन भेजा गया था, लेकिन उन्होंने मद्रास हाई कोर्ट में चुनौती दी थी कि किसी महिला को पूछाताछ के लिए घर से दूर नही बुलाया जा सकता।

ये भी पढ़ें:-सीसीएल प्रबंधन कर रहा है उत्पीड़न, ग्रामीणों ने लिखा झारखंड के मुख्यमंत्री को पत्र https:

अदालत ने नहीं मानी नलिनी की दलील

अदालत ने उनकी इस दलील को नहीं माना कि किसी महिला को जांच के लिए सीआरपीसी की धारा 160 के तहत उसके घर से दूर नहीं बुलाया जा सकता। अदालत ने कहा कि इस तरह की छूट अनिवार्य नहीं है। यह संबंधित मामले के तथ्यों और परिस्थितियों पर निर्भर है। पेशे से वकील नलिनी ने अपनी अपील में जस्टिस एसएम सुब्रमण्यम के 24 अप्रैल के आदेश को चुनौती दी थी।

सारधा चिट फंड घोटाला मामले में जज ने ईडी के सामने गवाह के रूप में पेश होने को कहा था

जस्टिस सुब्रमण्यम ने ईडी के समन के खिलाफ नलिनी की याचिका खारिज कर दी थी। न्यायाधीश ने उन्हें सारधा चिट फंड घोटाला मामले मनी लांड्रिंग की जांच कर रहे ईडी के सामने गवाह के रूप में पेश होने को कहा था।  न्यायाधीश ने ईडी को नलिनी के नाम नया समन जारी जारी करने को कहा था। इसके बाद एजेंसी ने 30 अप्रैल को समन जारी कर उन्हें सात मई को उपस्थित होने को कहा था। एजेंसी ने कहा कि वह इस मामले से उनके संबंध पर मनी लांड्रिंग रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) के तहत बयान दर्ज करना चाहती है।

loading...

You may also like

लखनऊ : बाल आश्रय गृह के बच्चियों से शादी-समारोहों में कराया जाता था काम

लखनऊ। उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ के गोमती नगर