एएमयू : जिन्ना की तस्वीर पर सांसद ने जतायी आपत्ति, मिली नसीहत- अपने काम पर ध्यान दें

एएमयू
Please Share This News To Other Peoples....

अलीगढ़। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) एक बार फिर सुर्ख़ियों में है। यहां से सांसद सतीश गौतम द्वारा पाकिस्तान के जनक मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर को लेकर ऐतराज जताने के बाद विश्वविद्यालय की तरफ से पलटवार किया गया है। एएमयू के पूर्व मीडिया सलाहकार ने डॉ. जसीम मोहम्मद ने सांसद सतीश गौतम को खुला पत्र लिखकर काम पर ध्यान देने की नसीहत दी है। साथ ही उन्होंने इसे सस्ती लोकप्रियता और अखबारबाजी बताया है। दरअसल गौतम ने कुलपति तारिक मंसूर को पत्र भेजकर जिन्ना की तस्वीर को लेकर सवाल किए हैं, जिसे एएमयू के पूर्व मीडिया सलाहकार ने डॉ. जसीम मोहम्मद ने सस्ती लोकप्रियता और अखबारबाजी बताया है।

पढ़ें:- कर्नाटक: विधानसभा चुनाव के प्रचार के दौरान 41 करोड़ कैश और 21 करोड़ की शराब हुई बरामद 

एएमयू के पूर्व मीडिया सलाहकार डॉ. जसीम मोहम्मद द्वारा लिखा गया खुला पत्र..

आदरणीय श्री सतीश कुमार गौतम जी

माननीय सांसद, अलीगढ़ जनपद

सादर प्रणाम,

आपको जानकर हर्ष और ख़ुशी होगी कि आज आज़ादी के 70 वर्ष बाद भारत के हर गांव, हर घर तक बिजली पहुंच गई। बिजली पहुंचाने का वादा भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने पूरा किया। भाजपा एक जमीनी पार्टी है और श्री अमित शाह जी के नेतृत्व में देश विकास की ओर बढ़ रहा है। 2019 लोकसभा चुनाव के हर कार्यकर्ता जी जान से लगा हुआ है और जीत भी होगी यही देश चाहता है।

दूसरी ओर, आपके द्वारा भेजा हुआ ‘पत्र’ माननीय कुलपति एएमयू को, समाचार पत्रों में आज (1.5.2018) को पढ़ा। आपने एएमयू के छात्रसंघ भवन में पाकिस्तान के राष्ट्रपिता मोहम्मद अली जिन्ना के ‘तस्वीर’ यानी ‘फ़ोटो’ लगने के औचित्य पर सवाल किया है। आज से पहले भी ऐसी सवाल उठते रहे हैं। एएमयू ने कहा कि ऐसा कोई ‘पत्र’ उन्हें प्राप्त नहीं हूआ है, हो सकता है आपने रेजिस्टर्ड पोस्ट से भेजा हो और समाचार पत्रों को पहले बता दिया हो। कोई बात नहीं ऐसी ‘छपास’ की ‘उत्सुकता’ होती है और आप सासद भी हैं अलीगढ़ के, होनी भी चाहिए। एक सभ्य नेता को सुर्खियों की जरूरत होती है। आप अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के गवर्निंग बॉडी ‘ एएमयू कोर्ट’ के माननीय सदस्य हैं चार वषरें से, आपको सभ्य तरीके से कोर्ट में ‘जिन्ना की तस्वीर’ या जो आपको लगता है, प्रश्न – सवाल रखने चाहिए थे, लेकिन आप सस्ती लोकप्रियता और अखबारबाजी के लिए ये सब बातें कर रहे हैं, ऐसा मुझे प्रतीत होता है।

आपको याद दिलाता चलूं, देश में सांसद तो काफ़ी होंगे, लेकिन आप अलीगढ़ सांसद हैं। ये वो अलीगढ़ है, जिसके सांसद की भारतीय राजनीति में एक अलग पहचान होती है। आपको अलीगढ़ के पूर्व सांसद और हर दिल अजीज श्रीमती शीला गौतम का अनुसरण करनी चाहिए। उन्होंने अलीगढ़ के सभी धमरें का दिल जीता है। लोग उनसे मिलते और इज्ज़त करते हैं। भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी का संकल्प ‘सबका साथ सबका विकास’ का आप ऐसी ‘बातों’ से मज़ाक़ उड़ा रहे है, मुझे ऐसा प्रतीत होता है। आपके सांसद रहते हुए पिछले चार साल में अलीगढ़ जनपद में एक भी ‘विकास’ का काम नहीं हुआ है।

अलीगढ़ जनपद के लोग गर्मियों में पानी के लिए परेशान है। स्वच्छता अभियान नदारद है। सांसद जी, प्रधानमंत्री जी की किसी भी योजना को लागू कराने की कोई मुहिम चलाई और न ही आपको कोई दिलचस्पी दिखती है।

आपसे निवेदन है कि आप अपनी गरिमा को ध्यान देते हुए ऐसी कोई ‘अखबारबाजी’ न करें, जिससे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के संकल्प को नुक़सान पहुंचे और अलीगढ़ के सांप्रदायिक सद्भाव को कोई ठेस पहुंचे। आप इतिहास को बदल नहीं सकते। इसमें कोई दो राय नहीं कि पाकिस्तान की स्थापना की मंत्रणा अलीगढ़ में हुई, इसको आप मिटा नहीं सकते।

असली मुद्दे पे बात होनी चाहिए। यह आपका संस्थान है और अलीगढ़ का नाम दुनिया में एएमयू रोशन करता रहेगा।

जय हिंद।

धन्यवाद।

डॉ. जसीम मोहम्मद

अलीगढ़ का एक जिम्मेदार शहरी

Related posts:

बोफोर्स: बीजेपी ने कांग्रेस से पूछा- कौन था वो पाकिस्तानी, जिसने राजीव गांधी से की थी मुलाक़ात
निकाय चुनाव: इन जिलों में होगी तीसरे चरण की वोटिंग
महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के खिलाफ फेरीवालों का मोर्चा, एमएनएस कार्यकर्ताओं को धुनाई
वृद्ध महिला के साथ एक 25 साल के युवक ने किया बलात्कार
इमारतों के रंग बदलने में व्यस्त बीजेपी का विकास से कोई मतलब नहीं: मायावती
बगैर ब्याज किसानों को बैंक दें कर्ज: भानु प्रताप
भगवा रंग में हज समिति कार्यालय, सपा ने कहा नाकामी छुपाने के लिए रंगों का खेल...
सिद्धार्थनगर के बर्डपुर नं. 4 में थर्ड क्लास के ईंटो से हो रहा खड़ंजा निर्माण
नगर निगम के कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर, होली से पहले मिलेगा बकाया बोनस
बेयरूत में फिलिस्तीन के मुद्दे पर अन्तर्राष्ट्रीय अधिवेशन, इसराइली ज़ुल्म पर चर्चा...
मोदी-शाह के एजेंडे को अब तक का सबसे बड़ा झटका, संघ ने भी छोड़ा साथ
चीयरलीडर्स को पार्टी में बुलाकर फंसी दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *