मुलेठी पोषक तत्वों का भंडार और हृदय रोग में है रामबाण: आचार्य बालकृष्ण

आचार्य बालकृष्ण
Please Share This News To Other Peoples....

नई दिल्ली। स्वाद में मुलेठी न केवल मीठी होती है,बल्कि कई पोषक तत्वों का भंडार है। पतंजलि आयुर्वेद हरिद्वार के आचार्य बालकृष्ण ने बताया कि मुलेठी में कैल्शियम, ग्लिसराइजिक एसिड, एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटीबायोटिक, प्रोटीन और वसा के गुणों से भरपूर होती है। इसके  इस्तेमाल से नेत्र रोग, मुख रोग, कंठ रोग, उदर रोग, सांस विकार, हृदय रोग, घाव के उपचार के लिए सदियों से किया जा रहा है।

आचार्य बालकृष्ण ने बताया मुलेठी  बात, कफ, पित्त तीनों दोषों को करती है शांत

आचार्य बालकृष्ण ने बताया कि मुलेठी हृदय रोग में भी लाभकारी है। 3 से 5 ग्राम तथा कुटकी चूर्ण को मिलाकर 15 से 20 ग्राम मिश्री युक्त जल के साथ प्रतिदिन नियमित रूप से सेवन करने से हृदय रोगों में लाभ होता है। उन्होंने बताया कि यह बात, कफ, पित्त तीनों दोषों को शांत करके कई रोगों के उपचार में रामबाण का काम करती है।

ये भी पढ़ें :-रिसर्च: कीटनाशी रसायनों से नहीं है कैंसर का कोई खतरा 

मुलेठी के क्वाथ से नेत्रों को धोने से दूर होते हैं नेत्र रोग

आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि मुलेठी के क्वाथ से नेत्रों को धोने से नेत्रों के रोग दूर होते हैं। मुलेठी की मूल चूर्ण में बरबर मात्रा में सौंफ का चूर्ण मिलाकर एक चम्मच प्रात: सायं खाने से आंखों की जलन मिटती है। इसके साथ ही नेत्र ज्योति बढ़ती है। मुलेठी को पानी में पीसकर उसमें रूई का फाहा भिगोकर नेत्रों पर बांधने से नेत्रों की लालिमा मिटती है। उन्होंने कहा कि मुलेठी कान और नाक के रोग में भी लाभकारी है। मुलेठी और द्राक्षा से पकाए हुए दूध को कान में डालने से कर्ण रोग में लाभ होता है। 3-3 ग्राम मुलेठी तथा शुंडी में छह छोटी इलायची तथा 25 ग्राम मिश्री मिलाकर, क्वाथ बनाकर 1-2 बूंद नाक में डालने से नासा रोगों का शमन होता है।

मुंह के छाले मुलेठी मूल के टुकड़े में शहद लगाकर चूसने से होता है लाभ

मुंह के छाले मुलेठी मूल के टुकड़े में शहद लगाकर चूसते रहने से लाभ होता है। मुलेठी को चूसने से खांसी और कंठ रोग भी दूर होता है। सूखी खांसी में कफ पैदा करने के लिए इसकी 1 चम्मच मात्रा को मधु के साथ दिन में 3 बार चटाना चाहिए। इसका 20-25 मिली क्वाथ प्रात: सायं पीने से श्वास नलिका साफ हो जाती है। मुलेठी को चूसने से हिचकी दूर होती है।

त्वचा रोग भी यह लाभकारी है मुलेठी

इसके सेवन से पेट के रोग में भी आराम मिलता है। मुलेठी का क्वाथ बनाकर 10-15 मिली मात्रा में पीने से उदरशूल मिटता है। त्वचा रोग भी यह लाभकारी है। पफोड़ों पर मुलेठी का लेप लगाने से वे जल्दी पककर फूट जाते हैं। मुलेठी और तिल को पीसकर उससे घृत मिलाकर घाव पर लेप करने से घाव भर जाता है।

Related posts:

नरेन्द्र मोदी देश के पहले पीएम जो पटना यूनिवर्सिटी के कार्यक्रम का हिस्सा बने
संख्या के आधार पर 8 राज्यों में हिंदुओं को घोषित किया जाए अल्पसंख्यक: बीजेपी नेता
लखनऊ: मेदांता अस्पताल की ओपीडी शुरू
जरूरी दवायें स्वास्थ्य विभाग के पोर्टल से गायब, मरीज बाहर से खरीद रहे दवायें
एसी मैकेनिक की हत्या, गोमती उतराता मिला शव
मथुरा : Police Encounter में मासूम की मौत, तड़पता छोड़कर भागे कानून के रखवाले
वसीम रिज़वी आज पूरी कौम को ज़लील कर रहा है : मुहम्मद आफ़ाक़
VIP एरिया में बैठने के लायक नहीं राहुल, हमने बैठने देकर की मेहरबानी : BJP
सुलह किया तो गुनहगार कहेगा जमाना : हसीन जहां
पाकिस्तानी विदेश मंत्री बोले- मुस्लिम होने के कारण सलमान खान को मिली सजा
बीजेपी नेत्री ने कपिल सिब्बल और उनके बेटे से मांगी माफ़ी, जानिए पूरा मामला
आरटीआई: कब आएंगे खाते में 15 लाख, तो पीएमओ से मिला ये जवाब

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *