मुजफ्फरपुर: सुशासन बाबु के शासन में बेख़ौफ़ बदमाश, पूर्व मेयर को गोलियों से भूना

पूर्व मेयरपूर्व मेयर

मुजफ्फरपुर। सुशासन बाबू के नाम से पहचाने जाने वाले बिहार के सीएम नीतीश कुमार को उनके प्रदेश अपराधी खुली चुनौती देते हुए दिखायी पड़ रहे हैं। यहां पर मुजफ्फरपुर एक बार फिर सुर्खियों में है। दरअसल शहर के नगर थाना अंतर्गत अग्निशमन कार्यालय के समीप रविवार शाम एके 47 से लैस अज्ञात अपराधियों ने पूर्व मेयर समीर कुमार और उनके वाहन चालक पर अंधाधुंध फायरिंग कर उनकी हत्या कर दी। पुलिस ने पूर्व मेयर के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजकर तहकीकात शुरू कर दी है।

पूर्व मेयर की एके 47 से की गयी हत्या

जानकारी के मुताबिक यह घटना मुजफ्फरपुर के बनारस बैंक चौक पर शाम 7:30 बजे के आसपास घटी है। बताया जा रहा है कि जब ये घटना हुई उस वक्त पूर्व मेयर समीर कुमार अपनी गाड़ी से कहीं से आ रहे थे। इस दौरान पर मोटरसाइकिल सवार अपराधियों ने पूर्व मेयर समीर कुमार की गाड़ी को ओवरटेक करके रोक दिया और अंधाधुंध फायरिंग कर दी जिसमें उनके ड्राइवर और उनकी मौके पर ही मौत हो गयी बदमोशों ने उनकी गाड़ी पर 20 राउंड फायरिंग की है।

पढ़ें:- पति दिखने में नहीं था सलमान, नाराज पत्नी ने ‘किस’ करते वक़्त काटी जुबान

काफी चर्चा में रहते थे समीर कुमार

बता दें कि घटनास्थल पर मृतक समीर कुमार के परिवार वाले भी पहुंच गए हैं। हत्या की वजह राजनीतिक है या व्यक्तिगत, अभी कोई नहीं बता रहा। लेकिन जिस तरीके से हत्या की गई है, स्पष्ट है कि कोई बड़ा गिरोह इस कांड में शामिल है।

समीर कुमार मुजफ्फरपुर के सार्वजनिक जीवन में काफी पॉपुलर थे। वे राजनीति में भी सक्रिय थे। इस हत्या के बाद मुजफ्फरपुर सन्नाटे में आ गया है। पूरे शहर में खौफ बढ़ गया है।

क्या कहती है पुलिस

इस मामले में बिहार के एसपी सिटी मुकुल रंजन का कहना है कि समीर कुमार और उनके चालक रोहित कुमार के शवों को पोस्टमार्टम के लिये श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज अस्पताल भेज दिया गया है और अपराधियों की पहचान के लिए प्रयास जारी हैं। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार से गोलीबारी की गयी है। उससे यही लगता है कि इसमें किसी आधुनिक स्वचालित हथियार का इस्तेमाल किया गया है। उन्होंने बताया कि वारदात स्थल से पुलिस ने करीब 17 खोखा बरामद किया।

loading...
Loading...

You may also like

राफेल सौदे पर बोले अखिलेश यादव, SC का आदेश सबसे बड़ा, JPC की जरूरत नहीं

लखनऊ। राफेल सौदे मामले में मोदी सरकार को