ISRO के मिशन चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम को नासा का ‘हैलो’

- in Categorized, Main Slider, राष्ट्रीय
Loading...

नई दिल्ली। इसरो के मिशन चंद्रयान 2 में लैंडर विक्रम से संपर्क टूट जाने के बाद दोबारा संपर्क स्थापित करने की कोशिश में लगे भारतीय वैज्ञानिकों की मदद अब नासा करेगा। विक्रम से इसरो का संपर्क स्थापित हो जाता है तो लैंडर और रोवर अपना काम शुरू कर देंगे और भारत के इस अंतरिक्ष अभियान 100 प्रतिशत सफलता मिल जाएगी। फिलहाल यह मिशन 95 प्रतिशत सफल है।

इसी बीच दुनिया की सबसे बड़ी अंतरिक्ष एजेंसी राष्ट्रीय वैमानिकी एवं अंतरिक्ष प्रशासन (नासा) ने चांद की सतह पर गतिहीन पड़े विक्रम लैंडर से संपर्क स्थापित करने के लिए उसे हैलो का संदेश भेजा है।

यह भी पढ़ें.. मॉब लिचिंग : पश्चिम बंगाल में बच्चा चोरी के शक में पीट-पीटकर हत्या

अपने गहरे अंतरिक्ष ग्राउंड स्टेशन नेटवर्क के जरिए नासा का जेट प्रोपल्सन लैबोरेटरी (जेपीएल) ने लैंडर के साथ संपर्क स्थापित करने के लिए विक्रम को एक रेडियो फ्रीक्वेंसी भेजी है। नासा के एक सूत्र ने इस बात की पुष्टि की।

यह भी पढ़ें.. तबरेंज अंसारी केस में डॉक्टरों का आरोप – ‘हुई थी हत्या, हमारे निष्कर्ष को गलत तरीके से पेश किया’

Loading...
loading...

You may also like

रास्ता खोलने से पहले सुरक्षा की गारंटी चाहते हैं शाहीनबाग के प्रदर्शनकारी

Loading... 🔊 Listen This News नई दिल्ली। सुप्रीम