पाकिस्तान की अपेक्षा में भारत के पति ज्याद क्रूर

पाकिस्तान
Please Share This News To Other Peoples....

नई दिल्ली। भारत और बांग्लादेश में नेपाल की अपेक्षा में पति अपनी पत्नियों को ज्यादा प्रताड़ित करते हैं। गुट्टामाकर-लांसेट आयोग की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि यहां शारीरिक और यौन प्रताड़ना के मामले ज्यादा हैं। लैंगिक, प्रजनन, स्वास्थ्य और अधिकार को आधार बनाकर बनाई गई इस रिपोर्ट में एशिया और मध्य पूर्व के 13 देशों में से भारत को दूसरे स्थान पर जगह मिली है। बांग्लादेश इस रिपोर्ट में सबसे पहले स्थान पर है। जबकि पति द्वारा पत्नी से क्रूरता के मामले में सिंगापुर सबसे निचले पायदान पर है।

नेपाल और पाकिस्तान की स्थिति भारत से कहीं अच्छी

नेपाल और पाकिस्तान की स्थिति भारत से कहीं अच्छी पाई गई है। जबकी पाकिस्तान ने बीते एक साल का आंकड़ा ही उपलब्ध कराया है। महिला हिंसा पर तैयार की गई इस रिपोर्ट में हिसा के तमाम बिंदुओं को शामिल किया गया है। इसमें यौन उत्पीड़न, मानसिक प्रताड़ना, शारीरिक हिसा, जबरन गर्भपात, ऑनर किलिंग, देह व्यापार और बाल विवाह आदी को भी लिया गया है।

ये भी पढ़े :

रिपोर्ट में बताया गया है कि जबरन बच्चा पैदा करना और जबरदस्ती विवाह करने के मामले 2030 और ज्यादा तक बढ़ सकते हैं। भारत में गर्भपात के लिए 1971 में बने कानून का हवाला देते हुए कहा बताया गया है कि दूसरे देशों के मुकाबले यहां अब भी असुरक्षित गर्भपात का चलन है। कानून से बचने के लिए चोरी-छुपे गर्भपात के चलते भी यहां महिलाओं को अधिक प्रताड़ना झेलनी पड़ती है। आयोग ने अपनी रिपोर्ट में महिला अधिकारों को लेकर भी सवाल उठाए हैं।

Related posts:

नौकरी पाना चाहते हैं, तो ऐसे तैयार करें रिज्यूम
जडेजा ने एक ओवर में जड़े 6 छक्के
पिछड़े वर्ग को घबराने की ज़रुरत नहीं, हम जेल से करंगे संघर्ष : लालू
सेना को खुली छूट दे सरकारः मुलायम
10 रुपये के सिक्कों की 14 डिजाइनें हुईं मान्य
rastriya मतदाता दिवस पर फेसबुक की शपथ आरम्भ
लखनऊ : फर्जी एजुकेशन बोर्ड चला रहे 7 ठग गिरफ्तार, लाखों छात्रों से ठगी का मामला
राज्यसभा सीट की उम्मीदवारी के लिए अपर्णा यादव का बड़ा बयान
राज्यसभा चुनाव : सपा के विधायकों ने अपनाया बागी रुख, बसपा की बढ़ सकती हैं मुसीबतें.
आप विधायकों को मिली राहत, हाई कोर्ट ने नोटिफिकेशन किया रद
मुख्य न्यायाधीश के खिलाफ महाभियोग की तैयारी में विपक्ष, राज्यसभा में जल्द नोटिस
आंकलन : महिला सुरक्षा मामले में कटघरे में खड़ी मोदी सरकार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *