बसपा के साथ गठबंधन न होना कांग्रेस के सपनों पर फेर सकता है पानी?

- in Main Slider, राजनीति, राष्ट्रीय
Loading...


मध्य प्रदेश। देश के पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव को 2019 के लोकसभा का सेमीफाइल माना जा रहा है। ऐसे में कांग्रेस के लिए स्थिति करो या मरो जैसी है। तेलंगाना छोड़कर बाकी राज्यों में कांग्रेस अकेले चुनावी मैदान में उतरी थी। शुक्रवार को आए निर्गम मतानुमान (Exit poll) के मुताबिक मध्य प्रदेश में कांग्रेस और बीजेपी के बीच कांटे की टक्कर है। निर्गम मतानुमान (Exit poll) में दोनों दलों के बीच का फासला महज कुछ सीटों का है। ऐसे में बसपा के साथ गठबंधन न होना कांग्रेस के सपनों पर पानी फेर सकता है।

निर्गम मतानुमान (Exit poll) में मध्य प्रदेश में कांग्रेस को मामूली बढ़त मिलती दिख रही है। इंडिया टुडे एग्जिट पोल में मध्य प्रदेश की कुल 230 विधानसभा सीटों में से कांग्रेस को 104 से 122 सीटें और BJP को भी 102 से 120 सीटें मिलने का अनुमान है। जबकि बहुजन समाज पार्टी  को 3 और अन्य को 3 से 8 सीटें मिलने का अनुमान है।

Exit Polls में बीजेपी की सरकार पर संकट, पूर्ण बहुमत के साथ कांग्रेस की वापसी 

देश के पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव को 2019 के लोकसभा का सेमीफाइल माना जा रहा है। ऐसे में कांग्रेस के लिए स्थिति करो या मरो जैसी है। तेलंगाना छोड़कर बाकी राज्यों में कांग्रेस अकेले चुनावी मैदान में उतरी थी। शुक्रवार को आए निर्गम मतानुमान (Exit poll) के मुताबिक मध्य प्रदेश में कांग्रेस और बीजेपी के बीच कांटे की टक्कर है। निर्गम मतानुमान (Exit poll) में दोनों दलों के बीच का फासला महज कुछ सीटों का है। ऐसे में बसपा के साथ गठबंधन न होना कांग्रेस के सपनों पर पानी फेर सकता है।

निर्गम मतानुमान (Exit poll) में मध्य प्रदेश में कांग्रेस को मामूली बढ़त मिलती दिख रही है। इंडिया टुडे एग्जिट पोल में मध्य प्रदेश की कुल 230 विधानसभा सीटों में से कांग्रेस को 104 से 122 सीटें और BJP को भी 102 से 120 सीटें मिलने का अनुमान है। जबकि बसपा को 3 और अन्य को 3 से 8 सीटें मिलने का अनुमान है।

जिन वादों के साथ नोटबंदी की गई थी, वे अबतक अधूरे: बसपा सुप्रीमो 

वोट शेयर में भी दोनों के बीच मामूली अंतर दिख रहा है। कांग्रेस को 41% और BJP को 40% वोट मिल सकते हैं। बसपा के 4 फीसदी और अन्य को 15 फीसदी वोट मिल सकता है। ऐसे में अगर कांग्रेस और बसपा मिलकर चुनाव लड़ते तो वोट फीसदी जहां 45 फीसदी होता तो सीटों में बड़ा इजाफा हो सकता था। ऐसे में भारतीय जनता पार्टी (BJP) को कांग्रेस टक्कर ही नहीं बल्कि करारी मात देकर सत्ता में वापसी कर सकती थी।

सी वोटर, एबीपी और चाणक्य के निर्गम मतानुमान (Exit poll) में कांग्रेस को पूर्ण बहुमत मिलता दिख रहा है। जबकि एक सर्वे में BJP सत्ता में एक बार फिर वापसी कर रही है। हालांकि सभी सर्वे में बसपा और अन्य को 3 से 8 सीटों के बीच मिलती दिख रही है।

बता दें कि मध्य प्रदेश में सत्ता में वापसी के लिए कांग्रेस ने पूरी ताकत झोंक दी थी। कांग्रेस-बसपा के बीच चुनाव से पहले गठबंधन की बातें चल रही थी। लेकिन मायावती ने गठबंधन न होने का ठीकरा कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह पर फोड़ा था। इसके बाद कांग्रेस दोनों पार्टियां अलग-अलग चुनाव लड़ी थी।

शिवपाल यादव पर योगी सरकार मेहरबान, बसपा का बंगला चाचा को सौंपा 

मध्य प्रदेश के चंबल, बुंदेलखंड और यूपी से सटे जिलों में बसपा का अच्छा खासा प्रभाव है। बसपा ने तकरीबन सभी सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे। ऐसे में हर सीट पर उन्हें कुछ न कुछ वोट मिले हैं। जबकि अगर दोनों के बीच गठबंधन होते तो ये वोट बसपा के बजाय कांग्रेस को मिलते। इस तरह कांग्रेस कांटे की टक्कर नहीं बल्कि सत्ता में स्पष्ट बहुमत के साथ वापसी करती नजर आती।

वहीं, राजस्थान और छत्तीसगढ़ विधानसभा में भी बसपा को कुछ सीटें मिलती दिख रही है। हालांकि ज्यादातर एक्जिट पोल कांग्रेस को पूर्ण बहुमत दिखा रहे हैं। बसपा साथ मिलकर चुनाव कांग्रेस चुनावी मैदान होती तो सीटों में और भी ज्यादा बढ़ोतरी हो सकती थी।

वोट शेयर में भी दोनों के बीच मामूली अंतर दिख रहा है। कांग्रेस को 41% और BJP को 40% वोट मिल सकते हैं। बसपा के 4 फीसदी और अन्य को 15 फीसदी वोट मिल सकता है। ऐसे में अगर कांग्रेस और बसपा मिलकर चुनाव लड़ते तो वोट फीसदी जहां 45 फीसदी होता तो सीटों में बड़ा इजाफा हो सकता था। ऐसे में भारतीय जनता पार्टी (BJP) को कांग्रेस टक्कर ही नहीं बल्कि करारी मात देकर सत्ता में वापसी कर सकती थी।

सी वोटर, एबीपी और चाणक्य के निर्गम मतानुमान (Exit poll) में कांग्रेस को पूर्ण बहुमत मिलता दिख रहा है। जबकि एक सर्वे में BJP सत्ता में एक बार फिर वापसी कर रही है। हालांकि सभी सर्वे में बसपा और अन्य को 3 से 8 सीटों के बीच मिलती दिख रही है।

बता दें कि मध्य प्रदेश में सत्ता में वापसी के लिए कांग्रेस ने पूरी ताकत झोंक दी थी। कांग्रेस-बसपा के बीच चुनाव से पहले गठबंधन की बातें चल रही थी। लेकिन मायावती ने गठबंधन न होने का ठीकरा कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह पर फोड़ा था। इसके बाद कांग्रेस दोनों पार्टियां अलग-अलग चुनाव लड़ी थी।

मध्य प्रदेश के चंबल, बुंदेलखंड और यूपी से सटे जिलों में बसपा का अच्छा खासा प्रभाव है। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने तकरीबन सभी सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे। ऐसे में हर सीट पर उन्हें कुछ न कुछ वोट मिले हैं। जबकि अगर दोनों के बीच गठबंधन होते तो ये वोट बसपा के बजाय कांग्रेस को मिलते। इस तरह कांग्रेस कांटे की टक्कर नहीं बल्कि सत्ता में स्पष्ट बहुमत के साथ वापसी करती नजर आती।

वहीं, राजस्थान और छत्तीसगढ़ विधानसभा में भी बसपा को कुछ सीटें मिलती दिख रही है। हालांकि ज्यादातर एक्जिट पोल कांग्रेस को पूर्ण बहुमत दिखा रहे हैं। बसपा साथ मिलकर चुनाव कांग्रेस चुनावी मैदान होती तो सीटों में और भी ज्यादा बढ़ोतरी हो सकती थी।

Loading...
loading...

You may also like

Chandra Grahan 2019: चंद्र ग्रहण से भारत में पड़ेगा यह प्रभाव

Loading... 🔊 Listen This News नई दिल्ली। 2019