प्रदूषण का शिकंजा और कसेगा, दिल्‍ली में 12 तक हाइअलर्ट

नई दिल्ली। दिल्लीवालों को दिवाली के बाद की दमघोंटू हवा से रविवार को भी राहत नहीं मिलेगी। विपरीत मौसमी दशाओं के बीच हवा की गुणवत्ता में अगले करीब 48 घंटे तक सुधार की उम्मीद नहीं है। इसमें धूल के महीन कण पीएम 2.5 की मात्रा सबसे ज्यादा रहेगी।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का कहना है कि सोमवार दोहपर बाद हवा की चाल तेज होने के बाद ही दिल्ली से प्रदूषण की चादर छटने की उम्मीद है। उधर, दिल्ली की बदतर हालात देखते हुये ईपीसीए ने ग्रैप की अवधि 12 नवंबर तक बढ़ा दी है।

Related image

सीपीसीबी का कहना है कि शनिवार को पंजाब व हरियाणा से आने वाली हवा की रफ्तार 5 किमी प्रति घंटे के करीब रही। चाल धीमी होने से दिवाली का प्रदूषण दिल्ली से छंट नहीं सका।

रविवार को भी इसमें बहुत ज्यादा फर्क नहीं आयेगा। सोमवार दोपहर बाद हवा की रफ्तार 10-20 किमी प्रति घंटा होने के साथ ही आसमान में बादल भी छाएंगे। मंगलवार को दिल्ली में छिटपुट बारिश की भी आशंका है।

ये भी पढ़ें:- इंटेलिजेंस ब्यूरो का अधिकारी युवती को शादी का झांसा देकर कर रहा था यौन शोषण 

दूसरी तरफ सफर का पूर्वानुमान है कि अगले दो दिन तक प्रदूषण के स्तर में ज्यादा सुधार होने की उम्मीद नहीं है। थोड़ी राहत इस वजह है कि धरती की ऊपरी सतह पर हवा की चाल धीमी होने से पुआल को जलाने से पैदा होने वाला प्रदूषण दिल्ली नहीं पहुंच रहा है।

लेकिन स्थानीय स्तर पर होने वाले प्रदूषण रात में पीएम 2.5 के स्तर में बढ़ोत्तरी होगी। प्रदूषकों का फैलाव न होने से दिल्ली में पीएम2.5 खतरनाक स्तर पर पहुंच सकता है।

सफर के मुताबिक, शनिवार के पीएम 10 व पीएम2.5 का स्तर 339 व 226 से बढ़कर रविवार को 363 व 242 हो सकता है। सोमवार को भी इसमें ज्यादा कमी होने की उम्मीद नहीं है।

Related image

वायु गुणवत्ता सूचकांक रहा 401

सीपीसीबी की तरफ से जारी आंकड़ों के मुताबिक, शनिवार शाम चार बजे तक पिछले 24 घंटे का औसत वायु प्रदूषण सूचकांक 401 पर रहा। शुक्रवार की अपेक्षा इसमें 25 अंकों का सुधार आया है। सीपीसीबी का कहना है कि मौसमी परिस्थितियां खराब रहने से दिवाली के प्रदूषण में बहुत धीरे-धीरे सुधार आ रहा है।

उधर, शनिवार को लगातार दूसरे दिन फरीदाबाद की हवा खतरनाक स्तर पर रही। शहर का सूचकांक 440 पर था। जबकि गाजियाबाद का सूचकांक 403 व ग्रेटर नोएडा का 420 था। नोएडा व गुरूग्राम का सूचकांक बेहद खराब रहा। गुरूग्राम का सूचकांक 396 व नोएडा का 386 था।

Image result for Pollution in diwali

वजीरपुर की हवा सबसे खराब

राजधानी में सबसे ज्यादा प्रदूषित इलाका शनिवार को वजीरपुर रहा। बीते 24 घंटे में इलाके का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक 458 दर्ज किया गया। जबकि दूसरे नंबर पर प्रदूषित जनकपुरी का सूचकांक 450 था।

Image result for Pollution in diwali

इसके अलावा अशोक विहार, आनंद विहार, बवाना, बुराड़ी, मथुरा रोड, डीटीयू, द्वारका, जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम, मुंडका, नरेला, नेहरू नगर, ओखला, पटपडग़ंज, पंजाबी बाग जैसे इलाकों में भी वायु की गुणवत्ता 400 से ऊपर खतरनाक स्तर पर बनी रही।

loading...
Loading...

You may also like

CM योगी ने किया अंतर्राष्ट्रीय मुख्य न्यायाधीश सम्मेलन का शुभारंभ, बोली ये बड़ी बात

लखनऊ। उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा