Tech/Gadgetsफैशन/शैलीविचारव्यापार

नए ज़माने के गैजेट्स बने पशु पक्षियों के लिए वरदान , जाने कैसे

लाइफस्टाइल डेस्क.   भागदौड़ भरी जीवनशैली में भी लोग पालतू पशु-पक्षियों का मोह नहीं छोड़ पा रहे हैं . कहीं ये अकेलेपन के साथी बन रहे हैं, तो कहीं प्रतिष्ठा का प्रतीक. आज के हाईटेक युग में भी अधिकांश लोग पालतू पशु-पक्षियों को भी हाइटेक बना रहे है. इनको अब फैशन के साथ साथ तकनीकी से लैस भी किया जा रहा है .

कोरोनावायरस पर ट्वीट करना राहुल गांधी को पड़ा भारी, कश्मीर को भारत से अलग कर… 

तकनीक से न केवल इन्हें नियंत्रित किया जा रहा है, बल्कि इनकी देखरेख और मनोरंजन के लिए भी गैजेट्स का प्रयोग बढ़ रहा है। घरों में पाले जाने वाले कुत्ते और बिल्लियों के लिए सहायक उपकरणों का चलन चला, तो लोगों ने हाथों हाथ लिया। अब हाइटेक गैजेट्स लेने में लोग दिलचस्पी दिखा रहे हैं। यह गैजेट्स पालतू पशु-पक्षियों की देखभाल में सहायक साबित हो रहे हैं।

साथ ही पालतू पशु-पक्षियों के मनोरंजन के लिए भी तरह-तरह के गैजेट्स लोगों को लुभा रहे हैं। इन गैजेट्स में पेट चैट, एचडी कैमरा प्रमुख हैं, जिससे पालतू पशु-पक्षियों पर 24 घंटे नजर रखी जा सकती है। मनोरंजन के लिए स्पीकर, ऑटोमैटिक फीडर, पजल गेम्स, प्रोटेक्टिव आउटवियर, लेजर खिलौने, सेल्फ क्लीनिग मशीन, डॉगी ट्रेड मिल, एक्टीविटी मॉनीटर, जीपीएस ट्रैकिग कॉलर आदि काफी हिट हो रहे हैं।

मानसिक व शारीरिक स्वास्थ्य के लिए गैजेट्स : पालतू पशु-पक्षियों के विशेषज्ञ राजेश कुमार के मुताबिक, पालतू पशु-पक्षियों को संभालना तकनीक ने बेहद आसान कर दिया है।

अब पालतू जानवरों के खाने-पीने से लेकर स्वास्थ्य व मनोरंजन तक का ध्यान आसानी से रखा जा सकता है। इनकी गतिविधियों पर फोन से निगाह रखी जा सकती है। खाने-पीने का ध्यान रखने के लिए फीडिग गैजेट्स आ रहे हैं।

उनके मनोरंजन के लिए म्यूजिक स्पीकर और लेजर गेम्स के साथ बॉल थ्रोइंग मशीन उन्हें एक्टिव बना रही है। कुत्तों के लिए आ रहे विशेष पट्टे में जीपीएस लगे होने से कुत्ते या पालतू पशु-पक्षियों के गुम होने की संभावना नहीं रहती। जो लोग घरों में कुत्तों को अकेला छोड़कर बाहर चितित रहते हैं, पेट चैट गैजेट ने उनकी समस्या दूर कर दी है। फोन के जरिए उनकी गतिविधियां नियंत्रित की जा सकती हैं।

पालतू पशु-पक्षियों के लिए बने गैजेट्स पर तकनीक के क्षेत्र में पिछले कुछ समय में काफी काम हुआ है। आज जब लोग खुद हर काम के लिए तकनीक पर निर्भर हो चुके हैं, तो ऐसे में पालतू पशु-पक्षियों की देखभाल करना या पालन-पोषण करना उनके लिए मुश्किल हो रहा था। आज इस क्षेत्र में नए गैजेट्स काफी मददगार साबित हो रहे हैं। गैजेट्स के चयन में ध्यान रखना होगा, क्योंकि कई बार फायदों से ज्यादा नुकसान झेलने पड़ जाते हैं।

– सौमिल, तकनीकी विशेषज्ञ, गुरुग्राम पालतू जानवरों के लिए आने वाले गैजेट्स फायदेमंद साबित हो रहे हैं। पालतू जानवरों को तनाव से दूर रखने और उन्हें बेहतर स्वास्थ्य देने वाले गैजेट्स की डिमांड बढ़ गई है। उन्हें आराम देने व दिन भर अपने चहेते पालतू जानवरों से जुड़े रहने के लिए लोग कई किस्म के गैजेट्स लेने में दिलचस्पी दिखा रहे हैं। ऐसे में तकनीक ने पालतू पशु-पक्षी उद्योग को नया बूम दिया है।

loading...
Loading...