दिल्ली सरकार पर एनजीटी ने ठोका 50 करोड़ का जुर्माना

एनजीटीएनजीटी

नई दिल्ली। दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण की गाज दिल्ली सरकार पर गिरी। राजधानी में बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए केजरीवाल सरकार को फटकार लगी है। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने आवासीय इलाकों में स्थित स्टील पिकलिंग इकाइयों (स्टील पर लगी गंदगी, जंग हटाने वाली इकाइयों) के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने पर दिल्ली सरकार पर 50 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है। उल्लेखनीय है कि एनजीटी ने रिहायशी इलाकों में प्रदूषण फैलाने वाली कंपनियों के संचालन पर गहरी नाराजगी जताते हुए दिल्ली सरकार से इन पर पुख्ता कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे लेकिन सरकार ऐसा नहीं कर पाई।

एनजीटी ने रिहायशी इलाकों में पुख्ता कार्रवाई के निर्देश दिए

इसी वजह से जस्टिस आदर्श कुमार गोयल की अध्यक्षता वाली पीठ ने दिल्ली सरकार के खिलाफ 50करोड़ रुपए का जुर्माना ठोका है। एनजीओ ऑल इंडिया लोकाधिकार संगठन ने रिहायशी इलाकों में कंपनियां चलने के खिलाफ एनजीटी में याचिका दाखिल की थी। यह एनजीओ एनजीटी के आदेशों को लागू कराने के लिए देखरेख करता है। एनजीटी ने दिल्ली सरकार को निर्देश दिया था कि वह दिल्ली मास्टर प्लान 2021 के तहत दिल्ली प्रदूषण कंट्रोल कमेटी को रिहायशी इलाकों में चलने वाली स्टील कंपनियों को प्रतिबंधित लिस्ट में डाले और इस पर कार्रवाई करे।

ये भी पढ़ें : पूर्व बसपा सांसद के बेटे की गुंडागर्दी, खुलेआम लकड़ी पर लहराई बंदूक, वीडियो वायरल 

वजीरपुर इलाके में चलने वाली कई इंडस्ट्रीज खुले नालों में अपने अपशिष्ट को बहा देती हैं, जोकि अंत में यमुना नदी में मिल जाता है। इस पर एनजीटी ने दिल्ली सरकार से नाराजगी जताई कि उसने इस पर कोई उचित कदम नहीं उठाया है। उल्लेखनीय है कि इस बार अक्तूबर के शुरुआत में ही दिल्ली की हवा खराब होनी शुरू हो गई, इस पर भी एनजीटी ने सरकार ने इससे निपटने के बारे में पूछा था।

loading...
Loading...

You may also like

बंथरा में गौवंशीय पशुओं की हत्या कर मांस उठा ले गए तस्कर

लखनऊ। बंथरा इलाके में बुधवार सुबह एक आम