मोदी की टिप्पणी पर नीतीश ने साधी चुप्पी, सीट शेयरिंग पर कह दी ये बड़ी बात

नीतीश
Please Share This News To Other Peoples....

पटना। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की कथित ‘मुस्लिम पार्टी’ की टिप्पणी पर करना उचित नहीं समझा। कांग्रेस को मुस्लिमों की पार्टी करार देने के विषय में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि यह तो कांग्रेस वालों से पूछा जाना चाहिए। उन्होंने हालांकि कहा कि सभी दलों को अपनी तरह से राजनीति करने का अधिकार है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत भाजपा के कई अन्य नेताओं की कड़ी प्रतिक्रियाओं सहित अन्य राजनीतिक प्रश्नों पर कुमार ने कोई जवाब नहीं दिया। उन्होंने बस इतना कहा कि दूसरे दलों में लोग क्या कहते हैं इस पर वह टिप्पणी नहीं कर सकते।

चार से पांच सप्ताह के भीतर आ सकता है राजग के घटक दलों के बीच सीट साझा करने का फॉर्मूला

मंगलवार कुमार ने कहा कि राज्य में भाजपा समेत राजग के घटक दलों के बीच सीट साझा करने का फॉर्मूला चार से पांच सप्ताह के भीतर आ सकता है। लोकसंवाद के बाद पत्रकारों से बातचीत के दौरान भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के साथ गत 12 जुलाई को हुई मुलाकात के बारे में पूछा गया तो कुमार ने कहा कि हमने नाश्ते और रात के खाने पर कई चीजों पर बात की थी। इस दौरान बिहार से जुड़े भी मुद्दे थे। उन्होंने कहा कि अगर प्रश्न लोकसभा चुनाव को लेकर है तो उसके बारे में प्रस्ताव जल्द ही आएगा। यह पूछे जाने पर कि प्रस्ताव आने में कितना समय लगेगा नीतीश ने कहा कि तीन-चार सप्ताह में बाकी सारी बातें होंगी।

ये भी पढ़ें :-बदली रणनीति के तहत बसपा 2019 में इस फॉर्मुले पर लड़ेगी लोकसभा चुनाव 

2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा 22 सीटों पर लोजपा छह सीटों और रालोसपा तीन सीटों पर  रही थीं विजयी

बतातें चलें कि बिहार में राजग में शामिल दलों में जदयू और भाजपा के अलावा केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान की पार्टी लोजपा और उपेंद्र कुशवाह का दल रालोसपा जैसी छोटी पार्टियां भी शामिल हैं। बिहार में कुल 40 लोकसभा सीटें हैं। वर्ष 2014 का लोकसभा चुनाव भाजपा, लोजपा और रालोसपा ने साथ मिलकर लड़ा था जिनमें भाजपा 22 सीटों पर लोजपा छह सीटों और रालोसपा तीन सीटों पर विजयी रही थीं। पिछले लोकसभा चुनाव में अकेले दम पर लड़ी जदयू मात्र दो ही सीट पर विजयी रही थी और इस चुनाव में करारी हार मिलने के बाद उसने महागठबंधन में शामिल राजद और कांग्रेस के साथ मिलकर 2015 का बिहार विधानसभा चुनाव लड़ा था और भारी सफलता हासिल की थी।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *