मनमोहन जैसे बेहतर अर्थव्यवस्था आजतक किसी पीएम ने देश को नहीं दी

मनमोहनमनमोहन

नई दिल्ली। पीएम नरेंद्र मोदी अपने ज्यादातर भाषणों आरोप लगाते मिल जाते है कि पूर्व की मनमोहन सरकार ने अर्थव्यवस्था की नींव हिलाकर रख दिया था। लेकिन आंकड़ें तो कुछ और ही बयां करते हैं। राष्ट्रीय सांख्यिकी आयोग के आंकड़ों के मुताबिक पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने उदारीकरण शुरू होने के बाद जीडीपी को दहाई अंक तक पहुंचाया था जो सर्वाधिक वृद्धि है।

मनमोहन सरकार ने अर्थव्यवस्था की नींव हिलाकर रख दिया

इन आंकड़ों से साफ है कि कांग्रेस ने अर्थव्यवस्था को मजबूत किया था। राष्ट्रीय सांख्यिकी आयोग द्वारा गठित ‘कमिटी ऑफ रीयल सेक्टर स्टैटिक्स’ के मुताबिक मनमोहन जैसी अर्थव्यवस्था आजतक किसी पीएम ने देश को नहीं दी। पूर्व की कांग्रेस सरकार के राज में जितनी तेजी से देश आगे बढ़ा उतनी तेजी से उसने कदम कभी आगे नहीं बढ़ाए। आंकड़ें बताते हैं कि 2006 में 10.08 प्रतिशत रहा जो कि 1991 में शुरू हुए उदारीकरण के बाद का सर्वाधिक वृद्धि आंकड़ा है।

ये भी पढ़े : आप के विधायक, सांसद और मंत्री एक महिने का बेतन केरल के मदद में देंगें

सांख्यिकी और कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय की वेबसाइट पर ये आंकड़ें जारी किए गए हैं। आजादी के बाद 1988-89 में प्रधानमंत्री राजीव गांधी के समय आर्थिक वृद्धि दर 10।2 प्रतिशत रही थी लेकिन उस वक्त उदारीकरण शुरु नहीं हुआ था। रिपोर्ट के बाद कांग्रेस ने ट्विटर पर लिखा है, ‘‘जीडीपी श्रृंखला पर आधारित आंकड़ा अंततरू आ गया है। यह साबित करता है कि यूपीए शासन के दौरान वृद्धि दर मोदी सरकार के कार्यकाल की औसत वृद्धि दर 7।3 प्रतिशत से अधिक रही। पार्टी ने कहा कि। ‘‘यूपीए सरकार के शासन में ही वृद्धि दर दहाई अंक में रही जो आधुनिक भारत के इतिहास में एकमात्र उदाहरण है।

loading...
Loading...

You may also like

प्रेस कांफ्रेंस के दौरान सांसद अरुण कुमार ने बोली सीएम का सीना तोड़ने वाली बात

पटना। ‘नीच’ राजनीति को लेकर बिहार में पॉलिटिक्स बयानबाजी