सर दर्द को न करें नजरअंदाज कुछ सिरदर्द खतरनाक भी हो सकते हैं

- in फैशन/शैली, स्वास्थ्य
सिरदर्दसिरदर्द

लाइफस्टाइल डेस्क। सर दर्द एक आम समस्या हैं ये तो हर रोज किसी न किसी को होता हैं। बहुत लोगों इसे बीमारी समझते हैं। आमतौर पर लोग सिरदर्द के कारणों को नहीं समझना चाहते हैं। देखा जाता हैं कि सिरदर्द की समस्या होने पर हम तेल और बाम लगाते हैं। और दर्द निवारक दवा का सेवन करके इससे छुटकारा पा लिया जाता हैं। कुछ सिरदर्द, जिनका कारण तनाव या चिंता होते हैं, वो अपने आप ठीक हो जाते हैं। मगर कई सिरदर्द ऐसे भी होते हैं।  जिन्हें लंबे समय तक नजरअंदाज करना आपके लिए खतरनाक हो सकता हैं। तो आइए हम आपको बताते हैं सिरदर्द के कुछ आम कारण और इससे जुड़ी कुछ जरूरी बातें।

कंप्यूटर विजन सिरदर्द

आजकल बहुत सारे लोगों का काम बिना लैपटॉप या कंप्यूटकर के नहीं हो पाता है। ऐसे लोग जो रोजाना लंबे समय तक कंप्यूटर या लैपटॉप का इस्तेमाल करते हैं, उन्हें कंप्यूटर विजन हेडेक होने की संभावना ज्यादा होती है। इस तरह के सिरदर्द का कारण कंप्यूटर, लैपटॉप या स्मार्टफोन की स्क्रीन से निकलने वाली लाइट होती है। इस तरह के सिरदर्द को आप निम्न लक्षणों से पहचान सकते हैं।

धुंधली दिखना या एक के बजाय दो दिखना

आंखों में लालपन

थकान

गर्दन दर्द

सिरदर्द के साथ अगर इन चारों में से कोई लक्षण महसूस हो, तो इसका कारण कंप्यूटर विजन हेडेक हो सकता है। इस तरह के सिरदर्द से बचने का सबसे आसान तरीका ये हैं कि आप कंप्यूटर या लैपटॉप पर काम करने के दौरान ब्लू लाइट फिल्टर वाले चश्मे पहनकर बैठें। इसके अलावा आप डेस्क लैम्प का हैं  और आपकी आंखों पर इसका प्रभाव कम पड़ता हैं। अगर सिरदर्द के साथ-साथ आपको अपने जबड़ों में भी दर्द महसूस होता हैं तो जाइंट सेल आर्टराइटिस का संकेत हो सकता हैं। इस समस्या को आप निम्न लक्षणों से पहचान सकते हैं।

वजन घटना

धुंधला दिखना यो दो दिखना

बुखार

स्कैल्प खोपड़ी की त्वचा सामान्य से ज्यादा मुलायम महसूस होना

आमतौर पर ऐसा सिरदर्द 50 साल की उम्र के बाद होता है। ऐसा सिरदर्द खतरनाक हो सकता है इसलिए लक्षणों के दिखने पर जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करना बहुत जरूरी है। अगर ये सिरदर्द लंबे समय तक नजरअंदाज किया जाए, तो व्यक्ति के आंखों की रोशनी हमेशा के लिए जा सकती हैं।

सर्वाइकोजेनिक सिरदर्द

सर्वाइकोजेनिक सिरदर्द भी एक अलग तरह का सिरदर्द है। ये सिरदर्द के साथ-साथ आपको गर्दन के पिछले हिस्से में भी दर्द महसूस होता है। इसका खतरा उन लोगों होता है, जो लोग आमतौर पर सही पोश्चर नहीं रखते हैं। गर्दन के पिछले हिस्से और खोपड़ी की लाइनिंग के बीच में एक प्वाइंट आता है, जिसे सर्वाइकल स्पाइन या C2 जंक्शन कहते हैं। इसी जगह पर होने वाला दर्द सर्वाइकोजेनिक सिरदर्द है। इस समस्या को आप निम्न लक्षणों से पहचान सकते हैं।

ऊपरी श्वासनली में पीछे गर्दन और खोपड़ी के बीच में अकड़न  महसूस होना।

गर्दन के सामने वाली मांसपेशियों में परेशानी महसूस होना

आपकी छाती की मांसपेशियों में तनाव

कंधे के हिस्से में कठोरता इस तरह का सिरदर्द भी बहुत खतरनाक हो सकता है, इसलिए इसे भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। दर्द निवारक दवाओं का सेवन करने के बजाय आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए, जिससे कि वो जरूरी इलाज शुरू कर सकें।

loading...
Loading...

You may also like

घर में आसानी बनाएं अपनी मनपसंद टॉपिंग वाला पिज्जा

🔊 Listen This News लाइफ़स्टाइल। बच्चों को पिज्जा