पोक्सो एक्ट के तहत राहुल गांधी को नोटिस, नाबालिग बच्चों का वीडियो किया था शेयर   

राहुल गांधीराहुल गांधी

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी एक नए विवाद में पड़ गए हैं।जिसके चलते उनको काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। महाराष्ट्र बाल अधिकार आयोग ने उन्हें पोक्सो एक्ट के तहत नोटिस भेजा है। उन्हें ये नोटिस महाराष्ट्र के जलगांव में  नाबालिग के ऊपर हुए अत्याचार की वीडियो बना कर सोशल मीडिया पर शेयर करने के मामले में दिया गया है। आयोग ने अनमोल जाधव नाम के एक शख्स की शिकायत पर ये नोटिस जारी किया है। साथ की राहुल गांधी को 10 दिन के अन्दर जवाब देने को भी कहा है।

https://twitter.com/i/status/1007519009158332416

जुवेनाइल जस्टिस एक्ट और पोक्सो एक्ट के तहत राहुल गांधी को नोटिस

महाराष्ट्र बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने जुवेनाइल जस्टिस एक्ट और पोक्सो एक्ट के तहत राहुल को नोटिस भेजा गया है। जिसमें  उनको 10 दिन में जवाब देने को कहा है। वहीं नोटिस में उनसे पूछा गया है की क्यों उन्होंने दलित नाबालिग का वीडियो बिना ब्लर किये ट्विटर पर शेयर किया। आपको बता दें की जुवेनाइल जस्टिस एक्ट की धरा 74 के अनुसार अपराध का शिकार हुए किसी भी नाबालिग बच्चे की तस्वीर या नाम का खुलासा नहीं किया जा सकता, ताकि उनकी पहचान उजागर न हो सके। लेकिन राहुल ने इसका वीडियो शेयर कर कानून को तोड़ा है। जानकारी  के लिए बता दें की अभी तक उस वीडियो को ट्विटर पर 9 हज़ार से जादा लोग शेयर कर चुके हैं ।

ये भी पढ़े : अनुष्का के वीडियो पर केंद्रीय मंत्री ने किया समर्थन,बॉलीवुड सेलिब्रिटीज ने भी दिया साथ 

मामले के आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बता दें की महाराष्ट्र के जलगांव जिले के वकाडी गांव में दो दलित और एक अदिवासी लड़का कुए  में नहाने गए थे। कुए कथित तौर पर दूसरी जाति वालों का था। जिस वजह से लोगों ने उन्हें निर्वस्त्र कर घुमाया। इसी के चलते राहुल गांधी ने आरएसएस और बीजेपी को जिम्मेदार ठहराते हुए वीडियो शेयर किया। तभी से इस मामले ने तेज़ी पकड़ी। कई नेताओं ने इस मामले की कड़ी निंदा की। मामले में दो आरोपियों इश्वर जोशी और प्रह्लाद लोहार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

loading...

You may also like

पर्रिकर की बीमारी के बीच भाजपा को लगा बड़ा झटका, हटाने पड़े दो मंत्री

नई दिल्ली। गोवा में भाजपा की मुश्किलें कम