Main Sliderअंतर्राष्ट्रीयउत्तर प्रदेशख़ास खबरनई दिल्लीराष्ट्रीयस्वास्थ्य

अब सिर्फ 20 मिनट में होगा कोरोना टेस्ट, लैब में जांच कराने की नहीं होगी जरूरत

नई दिल्ली। कोरोना महामारी ने पूरे विश्व और महाशक्तियों को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया है। इससे बचने के लिए दुनिया भर की सरकारों ने अपने यहां लॉकडाउन लागू किया और कोरोना को रोकने की भरसक कोशिश की है। कोरोना की टेस्टिंग को लेकर भी विश्व को कठिनाईयों का सामना करना पड़ा है। ऐसे में इंग्लैंड से राहत की खबर आ रही है कि अब सिर्फ 20 मिनट में कोरोना संक्रमण की जांच हो सकेगी और संक्रमित व्यक्ति का इलाज शुरू करके उसे आइसोलेशन में रखा ज सकता है।

योगी सरकार का बड़ा फैसला, प्रदेश में छह माह तक हड़ताल पर लगाया बैन

इंग्लैंड के स्वास्थ्यमंत्री ने कहा कि ये टेस्ट पहले के टेस्ट की तुलना में अलग है। इस टेस्ट को पीसीआर टेस्ट कहते हैं और इस टेस्ट को लैब में करने की जरूरत नहीं है। इस टेस्ट में केवल 20 मिनट में रिजल्ट आ जायेगा। इसकी क्लीनिकल टेस्टिंग सफल होने के कारण इंग्लैंड में बड़े पैमाने पर ये टेस्ट किये जाने वाले हैं। गरीब और जरूररमंद लोगों की जांच मुफ्त में की जायेगी।

इंग्लैंड के स्वास्थ्य मंत्री मैट हैनकॉक के अनुसार कोरोना की स्वैब टेस्टिंग करने के बाद उसकी रिपोर्ट आने में कुछ दिनों का समय लगता है। लिहाजा मरीज के इलाज में विलंब होता है। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। इंग्लैंड के राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा के कर्मचारियों की एंटीबॉडी टेस्टिंग की जाने वाली है। अगले हफ्ते से ये टेस्टिंग की जायेगी ऐसा उन्होंने बताया है।

इस टेस्ट में मिल सकती है कोरोना की जानकारी

महाराष्ट्र टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक एंटीबॉ़डी टेस्ट में संबंधित व्यक्ति के अंदर कोरोना संक्रमण है या नहीं, संक्रमण के बाद उसके शरीर में एटीबॉडी विकसित हुई है या नहीं, इसकी जानकारी इस टेस्ट से मिलती है, जबकि स्वैब जांच में व्यक्ति को कोरोना संक्रमण है या नहीं सिर्फ यही जानकारी मिलती है।

कोरोना के प्रकोप के चलते ज्यादा से ज्यादा देशों में नागरिकों की टेस्टिंग करना जरूरी हो गया है। कोरोना की टेस्टिंग में उसकी रिपोर्ट आने में देरी होती है जिससे संक्रमण के और अधिक फैलने का खतरा बना रहता है, लेकिन इस नई टेस्टिंग अब सिर्फ 20 मिनट में कोरोना संक्रमित की पहचान हो सकेगी।

loading...
Loading...