अब होगा ट्रैफिक नियंत्रित, अतिक्रमण करने वालों की खैर नहीं

- in Main Slider, क्राइम, लखनऊ
अब होगा ट्रैफिक को नियंत्रित, अतिक्रमण करने वालों की खैर नहीं

लखनऊ। राजधानी में अनियंत्रित यातायात व्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए पुलिस, नगर-निगम और आरटीओ व ट्रैफिक पुलिस संयुक्त रूप से अभियान चालयेगीं। संयुक्त टीम रोजाना चिन्हित किए गए रूटों और चौराहों पर अतिक्रमण, डग्गेमार वाहनों और ठेले-खुमचों पर शिकंजा कसेंगी। शुक्रवार को एसएसपी कलानिधि नैथानी ने एआरटीओ, एएसपी ट्रैफिक के साथ बैठक कर अभियान का खाका तैयार कर लिया है।

राजधानी खाकी की आड़ में अवैध वसूली के खिलाफ चालये जा रहे आपरेशन क्लीन के बाद एसएसपी ने राजधानी की ट्रैफिक व्यवस्था को सुधारने के लिए कमर कस ली है। शुक्रवार शाम उन्होंने एएसपी ट्रैफिक, एआरटीओ के साथ बैठक कर यातायात व्यवस्था को पटरी पर लाने का तानाबाना बुना है। उन्होंने बताया कि ट्रैफिक को लेकर चलाये जा रहे अभियान में नगर-निगम की टीम को शामिल करने के लिए अधिकारियों से बातचीत की जायेगी। नगर-निगम, टै्रफिक पुलिस, आरटीओ और सिविल पुलिस की संयुक्त टीमें राजधानी भर में रोजाना अभियान चलायेगीं। अभियान के दौरान डग्गेमार वाहनों, अतिक्रमण, अवैध कब्जे, ठेले खुमचे लगाने वालों पर शिंकजा कसा जायेगा। उन्होंने संवाददाताओं से बातचीत कर राजधानी के कई चौराहों और रूटों को चिन्हित किया है।

ये भी पढ़ें:- एटीएम मशीन से नकदी चुराने के प्रयास का वांछित धरा गया

श्री नैथानी ने कहा विभिन्न विभागों की संयुक्त टीमें मौके पर ही कार्रवाई करेंगी। उन्होंने राजधानी भर में करीब दो दर्जन के करीब चौराहों को चिन्हित किया है। जहां हमेशा ही जाम की स्थिति बनी हुई है। इसके अलावा करीब कई रूटों पर अभियान चलाने के लिए अंकित कर लिया है। उन्होंने राजधानी की बिगड़ी यातायात व्यवस्था के लिए बगैर परमिट के चल रहे करीब ढाई हजार टेम्पो, आटो और ई-रिक्शा को भी जि मेदार ठहराया है। बताया कि शहर से बगैर परमिट के चल रहे टैम्पों के सीज होने से ट्रैफिक व्यवस्था में काफी हद तक सुधार आयेगा। वहीं दूसरी तरफ स्लो रन करने वाले ई-रिक्शा के मु य मार्गों पर संचालन प्रतिबंध लगाने को भी कहा है। चिन्हित चौराहों और रूटों पर अभियान चलाने के बाद उनका अचौक निरीक्षण भी किया जायेगा। चौराहों पर ठेले, अवैध कब्जे या फिर अतिक्रमण मिलने पर आरोपितों के साथ-साथ ड्यूटी पर तैनात पुलिस कर्मियों पर भी कार्रवाई की जायेगी।

हजारों की संख्या में बगैर परमिट के टेम्पो, सीज किए 6

शुक्रवार को श्री नैथानी ने राजधानी के विभिन्न इलाकों में अवैध रूप से संचालित हो रहे टैम्पों और आटो के खिलाफ अभियान चलाया था। दिन भर मशक्कत की रिपोर्ट देने शाम को एएसपी ट्राफिक रवि शंकर निम और एआरटीओ एसएसपी के कै प कार्यालय में पहुंचे थे। एसएसपी ने एआरटीओ से पूछा कि शहर में कितने बगैर परमिट के टैम्पो का संचालन हो रहा है। एआरटीओ ने हिचकिचाते हुए कहा कि तकरीबन ढाई हजार अवैध रूप से टैम्पो का संचालन किया जा रहा है। शुक्रवार को दिन भर चलाये गए अभियान की जानकारी लेने पर एएसपी ट्रैफिक रवि शंकर लिम ने बताया कि अवैध रूप से चल रहे महज 6 टैम्पो सीज किए गए हैं। दिन भर की मशक्कत सुनकर एसएसपी हैरान रह गए। कार्रवाई से असंतुष्टïता जताने पर एएसपी ट्रैफिक ने कहा अवैध टैम्पो चालकों ने शुक्रवार को गाड़ी चलाई ही नहीं। जिसके चलते महज 6 टैम्पो ही पकड़ में आये।

सरोजनीनगर में खड़े किए जायेगें सीज वाहन

शहर भर में बगैर परमिट के संचालित हो रहे टैम्पो और डग्गेमार वाहनों के खिलाफ वृहद रूप से अभियान चलाया जायेगा। उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन ने सीज वाहनों को सरोजनीनगर और एक अन्य स्थान पर खड़ा करने के लिए जगह दी है। सीज किए हुए वाहन चालक लेकर भाग न जाये, इसके लिए सरोजनीनगर में मिली भूमी के चारों और गड्ढे कर दिए जायेगें। सीज वाहनों के प्रवेश द्वार पर तमाम पुलिस बल तैनात किया जायेगा।

इन रूटों और चौराहों को किया चिन्हित

श्री नैथानी ने राजधानी के करीब दो दर्जन से अधिक चौराहों को चिन्हित किया है। जिसमें प्रमुख रूप से चौक चौराहा, बुद्घेश्वर चौराहा, अवध चौराहा, कैसरबाग चौराहा, मुंशीपुलिया चौराहा, पॉलीटेक्निक चौराहा के तमाम चौराहों को प्वांइट किया है। इसके अलावा अवध चौराहे से मुवैय्या तिराहा, चौक से हैदरगंज चौराहा, चिनहट से पॉलीटेक्निक चौराहे तक के रूटों को साफ किया जायेगा। अभियान के दौरान संयुक्त टीम के साथ एक क पनी पीएसी भी उपलब्ध कराई जायेगी।

एसएसपी को देख मातहत होते हैं एक्टिव

श्री नैथानी ने कहा कि बड़ी विड बना है कि मातहत स्वयं एक्टिव नहीं होते हैं। किसी भी अभियान को कामयाब बनाने के लिए उन्हें खुद ही सड़क पर उतर कर मशक्कत करनी पड़ती है। तब मातहत एक्टिव होकर अभियान में पूर्ण रूप से जि मेदार निभाते हैं। एसएसपी के हटते ही मातहत फिर ढीले पड़ जाते हैं। उन्होंने कहा कि अभियान के बाद प्वाइंटों पर अचौक निरीक्षण किया जायेगा। निरीक्षण के दौरान लापरवाही देखने पर प्वांइटों पर तैनात पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी।

मैट्रो कार्य स्थल से नहीं गुजरेगें ई-रिक्शे

एसएसपी ने कहा स्लो रन की वजह से ई-रिक्शा जाम लगा देते हैं। उन्होंने बताया कि शहर के स्पीड रनवे पर ई-रिक्शा के संचालन का प्रतिबंध रहेगा। अक्सर देखने में आया है कि शहीद पथ समेत अन्य हाई स्पीड रूटों स्लो स्पीड की वजह से ई-रिक्शा हादसे की चपेट में आ जाते हैं। जिसके चलते चार पहिया वाहन और रिक्शा सवार घायल हो जाते हैं। इसके अलावा राजधानी में जिन स्थानों पर मैट्रो का निर्माण कार्य चल रहा है। उन्हें चिन्हित कर लिया जायेगा। मैट्रो कार्य स्थल पर भी ई-रिक्शा का संचालन नहीं हो सकेगा।

loading...
Loading...

You may also like

ईएसआइसी अस्पताल में लगी आग, 147 से ज्यादा घायल, 6 की मौत

मुंबई। मुंबई के अंधेरी स्थित ईएसआइसी (ESIC)  कामगार