NTPC हादसे में आज तक नहीं हुई एफआईआर, कहीं लापरवाही पर पर्दा डालने कोशिश तो नहीं

रायबरेली । रायबरेली के ऊंचाहार में एनटीपीसी के प्लांट में ब्वॉयलर फटने के मामले में पुलिस ने अभी तक एफआईआर दर्ज करने कि जहमत नहीं उठाई । जबकि इस मामले को लेकर विपक्षीदल  जांच व राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग  भी सरकार से रिपोर्ट तलब कर चुका है।

इसके पीछे वजह यह है कि केंद्र, राज्य सरकार और एनटीपीसी प्रशासन नहीं चाहता है कि मामले की जांच पुलिस करे। पुलिस ने जांच की तो चीजें लीक हो सकती हैं। ऐसे में सबका जोर विभागीय जांच पर ही है। रविवार को एफआईआर दर्ज हो सकती है। इस मामले में  प्रदेश के अपर पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था आनंद कुमार ने बताया कि हादसे के फौरन बाद स्थानीय पुलिस की तरफ से घटना को लेकर ऊंचाहार थाने की जीडी में तसकरा पड़ा है। हादसे में एफआईआर को लेकर जल्द फैसला ले लिया जाएगा। उम्मीद है कि आज ही एफआईआर दर्ज हो जाए।

बतातें चले कि  एनटीपीसी हादसे के पांच  दिन बीत जाने के बाद भी अब तक एफआईआर दर्ज नहीं की गई है।  नियमों के मुताबिक पुलिस को  एफआईआर दर्ज करने के लिए किसी लिखित शिकायत की जरूरत नहीं है। इसमें दर्ज किया जाता है कि इस थाना क्षेत्र में इस तरह की घटना हुई है। मामले में किसी की भी मौत आपराधिक कृत्य है। वह मौत कैसे हुई और उसमें कोई दोषी है भी या नहीं, यह जांच के बाद ही पता चलेगा?  लेकिन मामला दर्ज किया जाना जरूरी है।

बतातें कि बीते बुधवार को एनटीपीसी प्लांट में बॉयलर पाइप फटने से बड़ा हादसा हुआ। इस हादसे में अपनी जान गंवाने वाले कामगारों की संख्या 32 हो चुकी है। यही नहीं दर्जनों लोग इसमें घायल हो गए। जिनका रायरबरेली से दिल्ली तक के अस्पतालों में इलाज चल रहा है।  हादसे के बाद केंद्र सरकार और राज्य सरकार के अलावा एनटीपीसी की तरफ से भी भारी-भरकम मुआवजे का ऐलान किया गया। इस घटना को लेकर विपक्षी दल लगातार लापरवाही का आरोप कर जांच की मांग कर रहे हैं।

loading...
Loading...

You may also like

विधान परिषद सभापति रमेश यादव के बेटे अभिजीत की गला घोंटकर हत्या

लखनऊ। विधान परिषद सभापति रमेश यादव के बेटे