समलैंगिक कानून आने से बढ़ी HIV मरीजों की संख्या, आगरा में 47 लोग संक्रमित

HIV

नई दिल्ली। आपसी सहमति से बनाए गए समलैंगिक संबंध अब अपराध की श्रेणी से बाहर कर दिया हो, लेकिन ये अब बीमारी की बड़ी वजह बन रहा हैं। स्थिति काफी डराने वाली हो गाई है। आगरा में समलैंगिक संबंधों के चलते 47 लोग HIV संक्रमित हो गए हैं। इनका इलाज SN मेडिकल कालेज के ART (एंटी रेट्रो वायरल ट्रीटमेंट) सेंटर में चल रहा है।

ये भी पढे : एरोमा मिशन एक ‘जीवन परिवर्तन मिशन’: डॉ आर ए माशेलकर 

SN कालेज के ART सेंटर में HIV के पंजीकृत 8935 में से 4017 मरीज इलाज ले रहे हैं। इनमें असुरक्षित यौन संबंध, संक्रमित रक्त-सुई के इस्तेमाल के ज्यादा मरीज रहते हैं। अब बदलते माहौल में समलैंगिक संबंध बनाने से HIV मरीजों  में बढ़त देखी गई  हैं।

आपो बता बीते दो साल में ऐसे 47 मरीज आए, जबकि पिछले महीने ही छह नए मरीज सामने आए हैं। जिसमें अधिकांश की उम्र 20 से 40 साल है। ART सेंटर प्रभारी डॉ. जितेंद्र दौनेरिया ने बताया है कि समलैंगिक संबंधों से HIV का खतरा और ज्यादा हो रहा है। नए मरीजों में अधिकांश युवा और कामकाजी लोग ही हैं।

समलैंगिक संबंध बनाने से HIV के मरीज बनने वाले लोगों में से 90 फीसदी लोग घर से बाहर और अकेले रहते हैं। ये कामकाजी हैं और इनकी सोच भी बिंदास है। चिकित्सक मानते हैं कि नए मरीज बीमारी के प्रति जागरूक हैं, लेकिन ऐसे मरीजों की संख्या ज्यादा हो सकती है, जो अपनी बीमारी को झिझक के चलते छुपते हैं।

 ये भी पढे : देश में पहली बार हुआ skull implant, 4 साल की बच्ची को मिली नई ज़िंदिगी 

मानसिक रोग विशेषज्ञ समलैंगिक को मानसिक विकार नहीं बल्कि जन्मजात मानते हैं। मानसिक स्वास्थ्य संस्थान एवं चिकित्सालय डॉ. दिनेश राठौर ने बताया कि लिम्बिक सिस्टम भावनाओं, संबंधों के आकर्षण को नियंत्रण करने वाला मस्तिष्क का एक भाग होता है।

कुछ में लिम्बिक सिस्टम विपरीत लिंग की संरचना के चलते मस्तिष्क विकसित होता है। इसके चलते समलैंगिक के प्रति आकर्षण पैदा होता है। उसी की तरह गतिविधि, हावभाव भी रहते हैं। और यह काउंसलिंग और इलाज से ठीक नहीं होते, ताउम्र रहते हैं।

दो साल में बीमारी की वजह

370 : वजह पता नहीं (मरीजों ने छिपाई)
189 : सेक्स वर्करों से
189 : संक्रमित मां से गर्भस्थ हुए शिशु को
166 : असुरक्षित यौन संबंध
162 : संक्रमित रक्त चढ़ाने पर
140 : संक्रमित इंजेक्शन से
61 : संक्रमित इंजेक्शन से नशाखोरी
47 : समलैंगिक संबंध बनाने से

ये भी पढे : उपवास के दौरान इन बातों का रखें विशेष ध्यान, ताकि BP और शुगर से रहें निशचिंत

ये है मरीजों का आंकड़ा

8935: मरीज कुल पंजीकृत हैं SN में
4017: मरीजों का चल रहा है इलाज
2106: पुरुष मरीज हैं HIV
1584: महिला मरीज हैं HIV

186: बच्चे हैं HIV
98: बच्चियां हैं HIV

05: मंगलामुखी हैं HIV

loading...
Loading...

You may also like

रेप से बचने के लिए निर्वस्त्र अवस्था में चार मंजिला से खुदी युवती, भाई चला रहा था सेक्स रैकेट

जयपुर। मुहाना थाना इलाके में शुक्रवार की रात