ओमप्रकाश राजभर का बड़ा ऐलान, ओबीसी वर्ग के 1 लाख युवाओं को देंगे रोजगार

ओमप्रकाश राजभरओमप्रकाश राजभर

लखनऊ। यूपी के पिछड़ा वर्ग कल्याण एवं दिव्यांगजन सशक्तीकरण मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने रोजगार उपलब्ध कराने को लेकर बड़ा बयान दिया है। राजभर ने ऐलान किया है कि वर्ष 2022 तक कंप्यूटर प्रशिक्षण योजना के माध्यम से एक लाख ओबीसी युवाओं को रोजगार दिया जाएगा। साथ ही विभाग की ओर से पिछड़े वर्ग के युवाओं के लिए आईएएस-पीसीएस समेत सभी प्रतियोगी परीक्षाओं की निशुल्क कोचिंग की व्यवस्था भी की जाएगी। लेकिन उनके केवल ओबीसी वर्ग को रोजगार देने की बात से कई तरह के सवाल खड़े करता है।

पढ़ें:- यूपी के कैबिनेट मंत्री की मांग, हर जाति का व्यक्ति 6 महीने के लिए बने सीएम 

ओमप्रकाश राजभर ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से किया योजना का शुभारंभ

बता दें कि यूपी के कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर शुक्रवार को योजना भवन में ऑनलाइन ‘ओ लेवल’ और ‘ट्रिपल सी’ कंप्यूटर प्रशिक्षण योजना का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से शुभारंभ कर रहे थे। इस दौरान राजभर ने बताया कि कंप्यूटर प्रशिक्षण योजना का मुख्य उद्देश्य बेरोजगार युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराना है। इस ऑनलाइन योजना का संचालन डिजिटल इंडिया कार्यक्रम के तहत हो रहा है।

पढ़ें:- राजभर ने केशव प्रसाद मौर्य के लिए दिखाई दरियादिली 

18000 छात्र-छात्राओं को प्रशिक्षण देने का लक्ष्य

कैबिनेट मंत्री ने बताया कि चालू वित्त वर्ष में पिछड़े वर्ग के 7500 छात्र-छात्राओं को ओ लेवल और 10500 से अधिक छात्र-छात्राओं को ट्रिपल सी का प्रशिक्षण दिलाने का लक्ष्य है। यानि कुल 180000 छात्र-छात्राओं को प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसके लिए 15 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा पिछड़े वर्ग के छात्र-छात्राओं को आईएएस, पीसीएस, इंजीनियरिंग व मेडिकल परीक्षाओं की बेहतर तैयारी कराने के लिए निशुल्क कोचिंग कराने का भी प्रस्ताव है। जल्द ही इसे लागू किया जाएगा।

वर्ष 2018-19 से संस्थाओं का चयन ऑनलाइन आवेदन के आधार पर किया जाएगा। संस्थाओं के ऑनलाइन आवेदन करने की अंतिम तिथि 14 जून है। भौतिक सत्यापन के बाद उपयुक्त संस्थाओं का चयन निदेशक, पिछड़ा वर्ग कल्याण की अध्यक्षता में गठित समिति करेगी। जिलेवार चयनित संस्थाओं में से किसी एक संस्था का चयन कर छात्र 21 जून से 15 जुलाई के बीच आवेदन कर सकेंगे। इंटरमीडिएट के अंकों के आधार पर डीएम की अध्यक्षता में गठित समिति पात्र छात्रों का चयन करेगी।

1 अगस्त से हर जिले में प्रशिक्षण शुरू कर दिया जाएगा। जिलेवार प्रशिक्षण के लिए चयनित संस्थाओं को एक वर्षीय ‘ओ लेवल प्रशिक्षण’ के लिए अधिकतम 15000 रुपये और ट्रिपल सी के लिए अधिकतम 3500 रुपये प्रति छात्र दिए जाएंगे।

loading...
Loading...

You may also like

दिल्ली सरकार पर एनजीटी ने ठोका 50 करोड़ का जुर्माना

नई दिल्ली। दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण की गाज