अपने ही घर में बैन हुईं पद्मावती, राजस्थान में भी नहीं होगी रिलीज

Please Share This News To Other Peoples....

जयपुर। यूपी और मध्‍य प्रदेश के बाद अब राजस्‍थान सरकार ने भी ‘ पद्मावती’ फिल्‍म को नहीं दिखाने का फैसला लिया है। मुख्‍यमंत्री बसुन्धरा राजे सिंधिया  ने कहा कि फिल्‍म में बदलाव संबंधी सुझाव केंद्र को दिए हैं। जब तक उनको अमलीजामा नहीं पहनाया जाएगा। तब तक इस फिल्‍म का प्रदर्शन राजस्‍थान में नहीं होगा।

बतातें चलें कि पिछले दिनों राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी को पत्र लिखकर आग्रह किया था कि ‘पद्मावती’ फिल्म तब तक रिलीज न हो जब तक इसमें आवश्यक बदलाव नहीं कर दिये जाये। ताकि किसी भी समुदाय की भावनाओं को ठेस न पहुंचे।

मुख्यमंत्री ने स्मृति ईरानी को लिखे पत्र में कहा है कि इस संबंध में सेंसर बोर्ड को भी फिल्म प्रमाणित करने से पहले इसके सभी संभावित नतीजों पर विचार करना चाहिए। प्रसिद्ध इतिहासकारों, फिल्मी हस्तियों और पीड़ित समुदाय के सदस्यों की एक समिति गठित की जाए जो इस फिल्म तथा इसकी कथानक पर विस्तार से विचार-विमर्श करें।

राजे ने पत्र में लिखा था कि विचार-विमर्श के बाद ऐसे आवश्यक परिवर्तन किए जाए । जिससे किसी भी समाज की भावनाओं को आघात न पहुंचे। उन्होंने कहा कि फिल्म निर्माताओं को अपनी समझ के अनुसार फिल्म बनाने का अधिकार है, लेकिन कानून व्यवस्था, नैतिकता और नागरिकों की भावनाओं को ठेस पहुंचने की स्थिति में मौलिक अधिकारों पर भी तर्क के आधार पर नियंत्रण रखने का प्रावधान भारत के संविधान में है। इसलिए पद्मावती फिल्म की रिलीज पर पुनर्विचार किया जाए।

 

ऐतिहासिक मूल्यों के खिलवाड़ पर मध्य प्रदेश में लगा चुका है बैन
इससे पहले बीते सोमवार को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने फिल्म ‘पद्मावती’ के संबंध में घोषणा की है। यदि इसमें ऐतिहासिक तथ्यों के साथ खिलवाड़ कर चित्तौड़ की महारानी (रानी पद्मावती) के सम्मान के खिलाफ दृश्य रखे गये तो उस फिल्म को मध्य प्रदेश में रिलीज करने की अनुमति नहीं दी जायेगी।

भोपाल में मुख्यमंत्री आवास पर राजपूत समाज के सम्मेलन में यह घोषणा करते हुए कहा कि इतिहास पर जब फिल्में बनायी जाती हैं। तो ऐतिहासिक तथ्यों के साथ छेड़छाड़ कोई बर्दाश्त नहीं करेगा। पूरा देश एक स्वर में कह रहा है कि फिल्म में ऐतिहासिक मूल्यों से खिलवाड़ किया गया है। इसलिये मैं पूरे जोश और होश में यह कह रहा हूं कि ऐतिहासिक तथ्यों से खिलवाड़ कर अगर रानी पद्मावती के सम्मान के खिलाफ दृश्य रखे गये हैं, तो उस फिल्म का प्रदर्शन मध्य प्रदेश की धरती पर नहीं होगा।

विवादित अंश नहीं हटायें तभी यूपी में होगी  रिलीज: केशव 

उत्तर प्रदेश उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने बीते 19 नवंबर को कहा था  कि फिल्म से जब तक विवादित अंश नहीं हटाये जायेंगे तब तक इस फिल्म को प्रदेश में रिलीज करने की इजाजत नहीं दी जायेंगी। उन्होंने कहा कि मुगलों के सामने आत्मसर्मपण के बजाय अपने जीवन का बलिदान दे दिया और इतिहास में अपना नाम अमर कर दिया। हमलावरों ने देश में बहुत उत्पात मचाया, लेकिन रानी ने अपने सतीत्व और आत्मसम्मान की रक्षा के लिये अपने को ‘जौहर’ में जिंदा जला लिया।

 

Related posts:

मायावती की प्रतिमा तोड़ने वाले का खुलासा, बोला- मुलायम सिंह के कहने पर तोड़ी थी मूर्ति
सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़
भारत सरकार मेरे पति से मुझे मिलने दे : कश्मीर अलगाववादी की पत्नी
करारी हार से अखिलेश ने लिया सबक, गठबंधन नहीं राहुल से है दोस्ती
यूपी 100 में घायलों को ले जाने से पुलिस ने किया इंकार, कहा गाड़ी गन्दी हो जाएगी
त्रिपुरा चुनाव : मतदान के लिए उमड़ी वोटर्स की भीड़, कांग्रेस-बीजेपी के लिए बड़ी चुनौती
इराक के मोसुल में मारे गए 39 भारतीयों के परिजनों को मिलेंगे 10-10 लाख : पीएम मोदी
शिवपाल नहीं चाहते थे राज्यसभा जाएं नरेश अग्रवाल, कांग्रेसियों ने चाचा-भतीजे में करवाई सुलह
अखिलेश के इस सुझाव से ख़त्म हो जाएगी आरक्षण से जुड़ी सभी समस्या!
उन्नाव गैंगरेप : पीड़िता के पिता की मौत को लेकर पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बड़ा खुलासा, जांच के लिए SIT ग...
बेंगलुरू को कचरे का शहर कहने पर राहुल का हमला, पीएम को बताया स्वाभाविक झूठा
कौन बचा रहा है? बाबा साहेब की प्रतिमा तोड़ने वालों को: सावित्री बाई फुले

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *