पंजे को मिलेगा हाथी का साथ, इन राज्यों में होगा गठबंधन

पंजे?????????????????????????????????????????????????????????

लखनऊ।  बीजेपी शासित मध्य प्रदेश, राजस्थान व छत्तीसगढ़  इस साल के आखिर भी विधान चुनाव होने वाले हैं। इन राज्यों में होने वाले  चुनाव में भाजपा को पटखनी देने के लिए कांग्रेस (पंजे) ने अभी से चाल चलनी शुरू कर दी है।

पंजे और हाथी  की जुगलबंदी असर भी दिखना शुरू

इन राज्यों के विधान सभा चुनाव को सभी दल आगामी लोकसभा चुनाव से पहले इसे सेमीफाइनल के तौर पर देख रहे हैं। इसी रणनीति के तहत कांग्रेस कर्नाटक चुनाव के बाद अपने तेवर अचानक बदल लिए है। इस बदले हुए तेवर का असर भी दिखना शुरू हो गया है। कर्नाटक के सीएम एचडी कुमार स्वामी के शपथ ग्रहण समरोह में सोनिया गांधी व बीएसपी सुप्रीमों मायावती की जुगलबंदी ही सारी कहानी बयां कर रही थी। अब इसका असर भी दिखना शुरू हो गया है।

ये भी पढ़ें :-यूपी व उत्तराखंड के बदले जा सकते हैं सीएम, ये हैं प्रबल दावेदार

कांग्रेस (पंजे ) को अब राष्ट्रीय राजनीति में खुद की भूमिका बदलने के लिये मजबूर होना पड़ा

मध्य प्रदेश  विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस अब बीएसपी के साथ गठबंधन को लेकर जुगत भिड़ा रही है। दोनों पार्टियों के बीच बातचीत का सिलसिला भी शुरू हो गया है और संभावना जताई जा रही है कि विधानसभा चुनाव कांग्रेस-बीएसपी साथ मिलकर लड़ेगी। बतातें चलें कि कांग्रेस को अभी तक छोटी पार्टियों के बीच हमेशा दबंग की छवि की तौर पर देखा जा रहा था, लेकिन अब राष्ट्रीय राजनीति में उसको खुद की भूमिका बदलने के लिये मजबूर होना पड़ा है। कर्नाटक इसका सबसे बड़ा उदाहरण रहा है। जहां पहले तो उसने जेडीएस को समर्थन देकर उसकी सरकार बनवाई फिर वित्त मंत्रालय के झगड़े को खत्म करते हुये उसे भी जेडीएस को ही सौंप दिया।

कांग्रेस में  7 फीसदी वोट जुड़ जाएं तो विपक्ष के पास अच्छी-खासी ताकत होगी

मध्य प्रदेश में भी कांग्रेस की पूरी कोशिश है कि उसका समझौता बीएसपी के साथ हो जाए। उत्तर प्रदेश में पिछले 20 सालों में कुल वोटों में से 7 फीसदी का औसत दलितों का रहा है। कांग्रेस को लगता है कि अगर उसके 36 फीसदी वोटों में ये 7 फीसदी भी जुड़ जाएं तो विपक्ष के पास अच्छी-खासी ताकत हो सकती है।  जो बीजेपी के 45 फीसदी वोट का सामना कर सकती है।

बीएसपी भी पंजे के साथ मध्य प्रदेश में ही नहीं राजस्थान और छत्तीसगढ़ में गठबंधन करने के मूड में

मध्य प्रदेश में कांग्रेस को लगता है कि इस बार शिवराज सिंह चौहान इस बार सत्ता विरोधी लहर का सामना कर रहे हैं और कुछ वोटों का प्रतिशत ही उनको सत्ता से बाहर कर देगा, अगर विपक्ष कोई बड़ी गलती नहीं करता है।  सूत्रों के मुताबिक बीएसपी भी कांग्रेस के साथ मध्य प्रदेश में ही नहीं राजस्थान और छत्तीसगढ़ में गठबंधन करने के मूड में दिखाई दे रही है। बीएएसपी का छत्तीसगढ़ में 5 और राजस्थान में 4 फीसदी वोटबैंक रहा है। कांग्रेस तो अब सिर्फ सीटों पर ही नहीं बल्कि उन सीटों पर भी समझौता करने को राजी है जहां पर सहयोगी दल का उम्मीदवार जीतने की स्थिति में है।

loading...
Loading...

You may also like

लखनऊ: बाइक लड़ने से हुआ विवाद, गोली मारकर आरोपी फरार

लखनऊ। 21 नवंबर को बारावफात के चलते प्रदेश