लंदन में बोले पीएम मोदी, ‘रोज 1-2 किलो गालियां खाना, यही मेरे सेहत का राज है’

लंदनलंदन

लंदन। 5 दिवसीय विदेश दौरा पर गए प्रधानमंत्री मोदी बुधवार को लंदन में भारतीय जनता को संबोधित किया। जहां उन्होंने अपने मन की कई बातों को उजागर किया। मोदी ने कहा की वे रोज 1-2 किलो गालियां खाते हैं, यही उनकी सेहत का राज है।  टाउनहॉल में प्रवासी भारतीयों को संबोधित करते हुए कही। इस मौके पर गीतकार प्रसुन जोशी ने पीएम मोदी से और भी कई सारे सवाल पुछे। इसके अलावा उन्होंने अपनी निजी जिंदगी के कुछ पहलुओं को बेहद सादगी के साथ बताया।

लंदन में भारतियों के बीच मोदी

लंदन में बुधवार को जब एक श्रोता ने उनसे उनकी सेहत का राज पूछा तो पीएम मोदी ने कहा कि पिछले 20 साल से वह रोज 1-2 किलो गालियां खां रहे हैं।।। ‘गालियां’, उनके यह शब्द कहते है दर्शकों का शोर और तेज हो गया। पुरे हॉल में ‘मोदी-मोदी’ के नारे लगने लगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यहां वेस्‍टमिनिस्‍टर में आयोजित कार्यक्रम “भारत की बात” में जहां अपने मन की कई बातों को उजागर किया वहीं श्रोताओं के सवालों के भी अच्छे से जवाब दिए।

इस मौके पर भारतीय गीतकार प्रसुन जोशी ने पीएम मोदी से कई सवाल किए। पीएम मोदी ने पिछली सरकारों का भी जिक्र किया, तो वहीं सर्जिकल स्‍ट्राइक के बारे में भी खुलकर बोले। इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि भारतीय संविधान की बदौलत ही एक चाय वाला प्रधानमंत्री की कुर्सी तक पहुंच पाया है। छह दिन के विदेश दौरे में उनका पड़ाव ब्रिटेन बना था। यहां पर उनका रॉयल पैलेस में भव्‍य स्‍वागत किया गया।

ये भी पढ़ें: सीतापुर में रिश्ता शर्मसार, पिता ने दोस्तों से करवाया बेटी का सामूहिक बलात्कार 

पीएम ने बांटे अनुभव

पीएम मोदी ने इस जनसभा को संबोधित करते हुए, अपने अनुभव को वहां बैठे लोगों से शेयर किये। उन्होंने कहा कि ‘रेलवे’ से ‘रॉयल पैलेस’, ये तुकबंदी आपके लिए बड़ी सरल है; लेकिन जिंदगी का रास्‍ता बड़ा कठिन होता है। जहां तक रेलवे स्‍टेशन की बात है, वो मेरी अपनी व्‍यक्तिगत जिंदगी की एक छोटी सी कहानी है। मेरी जिंदगी के संघर्ष का वो एक स्‍वर्णिम पृष्‍ठ है, जिसने मुझे जीना सिखाया, जूझना सिखाया और जिंदगी अपने लिए नहीं, औरों के लिए भी हो सकती है। ये रेल की पटरियों पर दौड़ती हुई और उससे निकलती हुई आवाज से मैंने बचपन से सीखा, समझा; तो वो मेरी अपनी बात है।

पीएम मोदी ने कहा कि साड़ी अचीवमेंट अपनी जगह पर हैं, लेकिन ‘रॉयल पैलेस’, ये नरेंद्र मोदी का नहीं है। ये मेरी कहानी नहीं है। उनका कहना था कि वो ‘रॉयल पैलेस’ सवा सौ करोड़ हिन्‍दुस्‍तानियों के संकल्‍प का परिणाम है। उनका कहना था कि देश के साथ न्‍याय के लिए खुद को भुला देना होता है। पीएम मोदी ने कहा कि बीच के स्‍वयं खप जाने के बाद ही पौध होती है।

loading...
Loading...

You may also like

रेल हादसा: रावण पुतला दहन के दौरान ट्रेन से कटकर 50 से ज्यादा मरे

अमृतसर। यहां जोडा रेलवे फाटक के पास दशहरा