मोदी सरकार के चार साल पूरा होने पर चलेगा ‘पोल खोल-हल्ला बोल’ अभियान

अभियान
Please Share This News To Other Peoples....

लखनऊ। मोदी सरकार के चार साल पूरे होने पर देश के तमाम संगठन पोल खोल-हल्ला बोल अभियान के तहत मोदी सरकार के मजदूर विरोधी, जन विरोधी व विभाजनकारी नीतियों का जनता के बीच में पर्दाफाश करेंगे।

अभियान के तहत 16 से 23 मई तक धरना-प्रदर्शन, जुलूस निकल ज्यादा से ज्यादा जनता को मोबलाइजेशन किया जायेगा

अभियान के तहत 16 से 22 मई  तक सभी जिलों में नुक्कड़ सभा, गांव बैठक, पर्चा वितरण, दीवार लेखन आदि के माध्यम से मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ जनता में व्यापक प्रचार किया जायेगा। 23 मई को जिला मुख्यालय, तहसील मुख्यालय, ब्लाक मुख्यालय पर धरना,प्रदर्शन, जुलूस आदि के रूप में ज्यादा से ज्यादा जनता को मोबलाइजेशन किया जायेगा। उक्त आशय का निर्णय जनसंगठनों, वर्गीय संगठनों, सामाजिक संगठनों-आंदोलनों के प्रतिनिधियों की बैठक में लिया गया। इसके लिए राज्य स्तर पर पर्चा तैयार कर जिलों में बड़े पैमाने पर वितरित करने का निर्णय लिया गया।

आम जनता के तो अच्छे दिन नहीं आये, किन्तु कारपारेट सेक्टर के अच्छे दिन आ गये

बैठक में वक्ताओं ने कहा कि मोदी सरकार ‘अच्छे दिन आयेंगे’ का वादा करके सरकार में आई थी। इन चार सालों में आम जनता के तो अच्छे दिन नहीं आये, किन्तु कारपारेट सेक्टर के अच्छे दिन आ गये हैं। पूरे प्रदेश में श्रम कानूनों का पालन नहीं हो रहा है। किसान कर्ज में डूबे हुए हैं। बेरोजगारी बढ़ रही है। महंगाई चरम पर है। कानून व्यवस्था की हालत बहुत खराब है। समाज में साम्प्रदायिक धु्रवीकरण तेज करने की कोशिश हो रही है। उच्च शिक्षण संस्थाओं पर हमले जारी हैं। आम जनता के लोकतांत्रिक अधिकारों पर हमला हो रहा है। अल्पसंख्यकों महिलाओं व दलितों के उत्पीडऩ की घटनाओं में भारी वृद्धि हुई है।

ये भी पढ़ें :-मोदी जी को अच्छे वक्ता होने का घमंड, सिर्फ भाषण से पेट नहीं भरता : सोनिया गांधी

बैठक में 57 संगठनों के प्रतिधिनिधियों ने लिया हिस्सा

बैठक की अध्यक्षता  आशा मिश्रा, वंदना मिश्रा व मधु गर्ग ने संयुक्त रूप से की। बैठक में 57 संगठनों के प्रतिधिनिधियों को बुलाया गया था। बैठक में  प्रेमनाथ राय, आर.एस. बाजपेयी (सीआईटीयू) इम्तियाज बेग (उत्तर प्रदेश किसान सभ) कांति मिश्रा, आशा मिश्रा (महिला फेडरेशन), वंदना मिश्रा (अमिट-पीयूसीएल), मुकुट सिंह (उत्तर प्रदेश किसान सभा), पुष्पेन्द्र, शैलेन्द्र कुमार (एआईकेकेएमएस) राजबली(एआईयूटीयूसी), महराजदीन चौधरी (किसान सभा), जमाल अहमद, अरूण यादव आयुश प्रताप सिंह यादव (एनवाईसी), बृजलाल भारती (उप्र खेएमयु) अफरोज आलम (अखिल भारतीय किसान महासभा), कमलेश कुमार सिंह, दिनकर कपूर (यूपी वर्कर्स फ्रन्ट), ताहिरा हसन, अजीत सिंह, उमाशंकर मिश्र, (एचएमएस), सस्मीता सिंह (राष्ट्रवादी महिला कांग्रेस), वंदना सिंह (आल इण्डिया महिला सांस्कृतिक संगठन), यादवेन्द्र, जेपी मौर्या (एआईडीएसओ), रामनाथ, संतोष यादव, (दिहाड़ी मजदूर संगठन), मायाराम वर्मा (असंगठित कामगार अधिकार मंच, उप्र), आरके मिश्रा (बीएसएनएलईयू), शशांक शेखर सिंह (राष्ट्रवादी छात्र कांग्रेस), राम सिंह (उप्र भवन निर्माण मजदूर सभा), जैनब, अफरोज जहां (हमसफर), कौशल किशोर (जन संस्कृत मंच), अतुल अंजान, शिवा राजभर (एआईएसए), चंद्रशेखर व सदरूद्दीन राना (एटक) आदि बैठक में उपस्थित रहे।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *