गोमती बैराज पर पूजन कचर ढेर, जिम्मेदार बेपरवाह

लखनऊ। राजधानी के गोमती बैराज पुल पर बीते लम्बे समय से पूजन आदि का कचरा ढेर है। इसकी साफ-सफाई करने के लिए नगर निगम आदि अपनी जिम्मेदारी नहीं निभाता है। नतीजा यह कूड़ा उड़ कर राहगीरों के ऊपर आता है साथ  ही नदी में भी जा रहा है। ऐसे में हमारी गोमती कैसे निर्मल होगी बड़ा सवाल है।
गंगा से लेकर राजधानी की गोमती को साफ स्वच्छ बनाने के लिए हर सम्भव प्रयास करने की बात कही जाती है। लेकिन जमीन हकीकत इससे जुदा ही है। स्थिति यह कि गोमती के ऊपर पडऩे वाले पुल से लोग पूजन के बाद मूर्तियां आदि प्रवाहित करते हैं । हालाकि यह लोगों की जागरुकता का ही असर है कि उन्होंने पूजन से जूड़ी वस्तुएं जैसे फूल माला पान सुपाड़ी नारियल आदि को नदी में फेंकना
बंद कर दिया है। लोग ऐसे चीजों को पुल के किनारे ही छोड़ जाते हैं। पूर्व मे ऐसी चीजों को एकत्र करने के लिए ऐसे स्थानों पर कूड़ादान रखवाने की बात कही गयी थी,लेकिन असल में ऐसा कुछ नहीं दिखता। यही नहीं गोमती बैराज सहित नदी पर बने तमाम पुलों पर से इन वस्तुओं को कई दिन तक न उठाये जाने की वजह से गन्दगी दिखाई पड़ती है। वहीं बंदर आदि जानवर इसे सड़क पर भी फैला देते हैं, नतीजतन राहगीर इससे परेशान होते हैं,साथ ही यह कूड़ा नदियों में भी उड़कर जाता है। एक ओर प्रदेश सरकार से लेकर केंद्र सरकार तक नदियों को निर्मल व साफ स्वच्छ बनाने की बातें करती है। लेकिन हकीकत में जिम्मेदार विभाग लापरवाह ही दिखाई पड़ते हैं।
loading...
Loading...

You may also like

CM ने गौतमबुद्ध नगर में स्कूल की दीवार गिरने से दो बच्चों की मृत्यु पर जताया शोक

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने