दशमोत्तर छात्रवृत्ति, शुल्क प्रतिपूर्ति योजना 2017-18 

छात्रवृत्तिछात्रवृत्ति

लखनऊ। अन्य पिछड़ा वर्ग (अल्पसंख्यक पिछड़ा वर्ग को छोड़ कर) दशमोत्तर छात्रवृत्ति,शुल्क प्रतिपूर्ति योजना 2017-18 के तहत छात्र,छात्राओं द्वारा ऑनलाइन भरे गए। आवेदन के संदर्भ में संबंधित छात्र,छात्राओं की गत परीक्षा के परिणाम घोषित न किए जाने के कारण।

ये भी पढ़ें :-136 परीक्षा केंद्र होंगे सीसीटीवी से लैस :जिलाधिकारी 

छात्रवृत्ति प्रबंधन प्रणाली पर अवश्य अपलोड कर दें

  • उनके पाठ्यक्रमों के परिणाम छात्रवृत्ति प्रबंधन प्रणाली पर अभी तक अपलोड न करने वाली शैक्षणिक संस्थाओं को।
  • उत्तर प्रदेश पिछडा वर्ग कल्याण विभाग ने निर्देश दिए हैं ।
  • पिछले परीक्षा परिणाम तत्काल घोषित कर।
  • इस परिणाम को आगामी 25 जनवरी से 02 फरवरी के मध्य छात्रवृत्ति प्रबंधन प्रणाली पर अवश्य अपलोड कर दें।

छात्रवृत्ति,शुल्क प्रतिपूर्ति के लाभ से वंचित न रह सके

  • ताकि कोई भी पात्र छात्र,छात्रा छात्रवृत्ति,शुल्क प्रतिपूर्ति के लाभ से वंचित न रह सके।
  • वर्ष 2017 में संशोधित अन्य पिछड़ा वर्ग दशमोत्तर छात्रवृत्ति,शुल्क प्रतिपूर्ति नियमावली के अनुसार प्रदेश के समस्त शिक्षण संस्थानों में दशमोत्तर कक्षाओं में अध्ययनरत अन्य पिछड़े वर्ग के छात्र,छात्राओं को।
  • उनके गत परीक्षा की मेरिट के आधार पर छात्रवृत्ति,शुल्क प्रतिपूर्ति का भुगतान विभाग में बजट की उपलब्धता तक किया जाना है।

25 जनवरी से 02 फरवरी के मध्य छात्र,छात्राओं द्वारा सही किया जा सकेगा

  • यदि ऑनलाइन आवेदन करने वाले अन्य पिछड़े वर्ग के छात्र,छात्राओं का गत परीक्षा परिणाम घोषित नहीं होता है।
  • उनका रिजल्ट संबंधित विश्वविद्यालय,अन्य अफलियेटिंग संस्थाओं द्वारा छात्रवृत्ति प्रबंधन की वेबसाइट पर अपलोड नहीं किया जाता है।
  • तो ऐसे छात्र,छात्राएं छात्रवृत्ति,शुल्क प्रतिपूर्ति से वंचित रह जाएंगे।
  • साथ ही जिन छात्र,छात्राओं का ऑनलाइन आवेदन राज्य एनआईसी स्तर पर परीक्षणोपरान्त संदेहास्पद श्रेणी में पाया जाएगा।
  •  उनमें इंगित त्रुटियों को भी शासन स्तर से निर्गत समय-सारणी के अनुसार आगामी 25 जनवरी से 02 फरवरी के मध्य छात्र,छात्राओं द्वारा सही किया जा सकेगा।
loading...
Loading...

You may also like

CM ने गौतमबुद्ध नगर में स्कूल की दीवार गिरने से दो बच्चों की मृत्यु पर जताया शोक

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने