भाजपा को 2014 में जीत दिलाने वाले प्रशांत किशोर जदयू में शामिल

प्रशांत किशोरप्रशांत किशोर

पटना। भारत की राजनीति में बड़े रणनीतिकार के तौर पर पहचाने जाने वाले प्रशांत किशोर अब राजनीति में सक्रीय हो गए हैं। वह बिहार की सत्ताधारी पार्टी जदयू में शामिल होने वाले हैं। इसकी जानकारी खुद प्रशांत किशोर ने रविवार को दी है। पीके को पटना में जदयू की राज्य कार्यकारिणी की बैठक में सीएम नीतीश कुमार की मौजूदगी में जदयू में विधिवत रूप से शामिल होंगे खुद सीएम नीतीश उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलवाएंगे।

प्रशांत किशोर जदयू की कार्यकारिणी की बैठक में होंगे शामिल

इसमें सबसे दिलचस्प बात यह है कि प्रशांत किशोर पहली बार जदयू की कार्यकारिणी की बैठक में शामिल होंगे। बता दें कि पिछले कुछ समय से ये खबर थी कि प्रशांत किशोर राजनीति में आ सकते हैं और अब से वह किसी भी राजनीतिक दल की रणनीतिक तौर पर मदद नहीं करेंगे।

प्रशांत किशोर ने ट्वीट कर खुद इस बात की पुष्टि की है कि वह अब पूरी तरह से राजनीति में आ गये हैं। प्रशांत किशोर ने रविवार की सुबह ट्वीट कर कहा- बिहार से नई यात्रा शुरू करने के लिए काफी उत्साहित हूं।

लोकसभा चुनाव को लेकर जदयू की कार्यकारिणी की बैठक

आगामी लोकसभा चुनाव 2019 के देखते हुए पटना में रविवार को जदयू की राज्यकार्यकारिणी की बैठक है। इस बैठक में पार्टी की ओर से नेता, विधायक, सासंद सभी शामिल होंगे। बताया जा रहा है कि आगामी लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर पार्टी की रणनीति क्या होगी। इससे खुद सीएम नीतीश कुमार अवगत कराएंगे। माना जा रहा है कि लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर जेडीयू की यह अहम बैठक है।

पढ़ें:- केंद्रीय मंत्री ने कहा- मंत्री हूं इसलिए तेल के बढ़ते दामों से फर्क नहीं पड़ता

2014 की जीत में भाजपा के साथ थे प्रशांत किशोर

बता दें कि प्रशांत किशोर 2014 में भाजपा, 2015 में राजद-जदयू-कांग्रेस महागठबंधन और 2017 में उत्तर प्रदेश विधानसभा में कांग्रेस के लिये काम कर चुके हैं। उन्हें एक रणनीतिकार के तौर पर जाना जाता है और वह पार्टियों के लिए चुनाव में जीत की गारंटी बन चुके हैं वह पहली बार तब चर्चा में आए थे जब 2014 के चुनाव प्रचार में बीजेपी के प्रचार को उन्होंने ‘मोदी लहर’ में बदल दिया था।

उसके बाद उनके भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से मतभेद की खबरें आईं और उन्होंने साल 2015 में बिहार विधानसभा चुनाव में महागठबंधन (राजद+जदयू+कांग्रेस) के प्रचार की कमान संभाल ली और इस चुनाव में बीजेपी को तगड़ी हार का सामना करना पड़ा।

loading...

You may also like

मुलायम सिंह के अखिलेश की रैली में पहुंचने से भड़के शिवपाल, कह दी ये बड़ी बात

लखनऊ। समाजवादी सेक्युलर मोर्चा का गठन करने के