मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव पर घूसखोरी का आरोप लगाने वाले पर एफआईआर की तैयारी 

मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिवमुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव
लखनऊ। मुख्यमंत्री  के प्रमुख सचिव एसपी गोयल ने खुद पर रिश्वत मांगने का आरोप लगाने वाले श स पर मानहानि का मुकदमा दायर करने की तैयारी की है। इसके लिए उन्होंने प्रदेश सरकार से अनुमति मांगी है। सूत्रों के मुताबिक एसपी गोयल ने अभिषेक गुप्ता के खिलाफ  मानहानि का केस करने के लिए नियुक्ति एवं कार्मिक विभाग के अपर मुख्य सचिव दीपक त्रिवेदी को एक पत्र लिखा है। इसमें शासन से केस करने के लिए अनुमति मांगी है। दीपक त्रिवेदी सोमवार को अवकाश पर थे।

25 लाख की रिश्वत का आरोप 

मंगलवार को स्पष्ट होगा कि शासन ने उनके पत्र पर क्या निर्णय लिया है। यह वही अभिषेक गुप्ता हैं जिन्होंने एसपी गोयल पर 25 लाख रुपये की रिश्वत मांगने का आरोप लगाया था। बाद में जब यह मामला तूल पकड़ा तो उसे गिर तार कर लिया गया और उसने बाद में अपनी गलती माफ़ी मांगते हुए आरोप वापस ले लिया था और कहा था कि उसकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं है।

मुख्य मार्ग पर जमीन की मांग

असल में अभिषेक गुप्ता हरदोई में पेट्रोल पंप लगाना चाहते थे। इसके लिए वह मुख्य मार्ग पर जमीन चाहते थे। उनका प्रस्ताव नीचे से पास होता हुआ जब मु यमंत्री के प्रमुख सचिव तक पहुंचा तो उन्होंने इसे खारिज कर दिया। उन्होने आरोप लगाया कि 25 लाख रिश्वत न देने के कारण उनका काम नहीं हो रहा। इसके बाद अभिषेक ने अपनी शिकायत राज्यपाल राम नाईक से से की। राज्यपाल ने उनका पत्र सीएम को भेजते हुए उस पर आवश्यक कार्रवाई करने को कहा। जब यह पत्र मीडिया में लीक हुआ तो हंगामा मच गया। बाद में पता चला कि अभिषेक गुप्ता भाजपा नेताओं का नाम लेकर अफसरों पर दबाव बनाता रहता है। भाजपा प्रदेश कार्यालय प्रभारी की शिकायत पर अभिषेक गुप्ता पर ही मुक़दमा दर्ज कर लिया गया। बाद में अभिषेक ने आरोपों से पलटते हुए माफ़ी मांग ली।
loading...

You may also like

यूपी कैबिनेट बैठक ख़त्म, नौ अहम प्रस्तावों को मिली मंजूरी

लखनऊ। यूपी कैबिनेट बैठक में मंगलवार को नौ प्रस्तावों