मुन्ना बजरंगी हत्याकांड में जेल में बंद चश्मदीद कैदी का सनसनीखेज खुलासा

चश्मदीद कैदी
Please Share This News To Other Peoples....

बागपत। पूर्वांचल के माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की हत्या ने यूपी में सनसनी मचा रखा है। इस हत्या को लेकर कई अनसुलझे सवाल है। जिसका जवाब अभी तक नहीं मिला पाया है। इस मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट इसे मात्र कहासुनी में हुई हत्या नहीं बल्कि सोची समझी साजिश की तरफ इशारा करते हैं। वहीं जेल में हत्या के चश्मदीद कैदी ने जिस बात का खुलासा किया है, उसने हड़कंप मचा दिया है।

पढ़ें:- पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बड़ा खुलासा, प्लानिंग के तहत हुई मुन्ना बजरंगी की हत्या

चश्मदीद कैदी ने किये कई खुलासे

इस हत्याकांड के चश्मदीद कैदी ने मुन्ना बजरंगी की हत्या से पहले कुछ ऐसी बातें बतायी हैं। जिनसे कई तरह के सवाल खड़े होते हैं। चश्मदीद के मुताबिक रविवार रात वह खाना खाकर जेल परिसर में टहल रहा था, करीब सवा नौ बजे जेल का मुख्य द्वार खुला और बाहर खड़ी एक एंबुलेंस को देखकर ड्यूटी पर मौजूद पुलिसकर्मियों में हड़बड़ी मच गई। एंबुलेंस को चेकिंग के बाद अंदर प्रवेश दिया गया, जिसमें से डरा-सहमा हुआ मुन्ना बजरंगी नीचे उतरा। कई सुरक्षाकर्मी तीन चरण में तलाशी लेकर बजरंगी को तन्हाई बैरक की ओर ले गए।

कैदी ने बताया कि इसी बीच विक्की सुन्हैड़ा आया और बजरंगी के गले मिलकर उसका स्वागत किया। बजरंगी को अलग बैरक में ले जाया जाने लगा तो बजरंगी की मांग पर विक्की और बजरंगी को एक बैरक में रखा गया। थोड़ी देर बाद बराबर वाली बैरक में बंद सुनील राठी उनकी बैरक में आया और हंसी-ठिठोली होने लगी। रात करीब एक बजे तीनों बैरक के बाहर मैदान में आ गए, जहां उन्होंने शराब पी। करीब ढाई बजे विक्की और बजरंगी एक बैरक में सो गए और सुनील अपनी बैरक में चला गया।

पढ़ें:- बीजेपी विधायक का बड़ा खुलासा, इसने कराई मुन्ना बजरंगी की हत्या 

एक फोन कॉल के बाद मुन्ना बजरंगी को मारी गयी गोली

चश्मदीद कैदी के मुताबिक सुबह के पांच बजे बैरक खुली तो मुन्ना, विक्की और सुनील बाहर आ गए और चाय का इंतजार कर रहे थे। वहीं चाय में देरी होने पर मुन्ना नहाने के लिए चल दिया। उनसे बताया कि इसी बीच सुनील की मुन्ना से किसी टेंडर की बात को लेकर कहासुनी हुई। उस समय विक्की ने बीच-बचाव कर मामला शांत कराया। इसी बीच सुनील के पास एक कॉल आई उसने कॉल पर बात की और थोड़ी देर बाद सुनील ने पिस्टल निकालकर बजरंगी पर हमला बोल दिया। बजरंगी अपनी जान बचाने के लिये भागा भी, लेकिन गोली लगने से वह गिर गया। सुनील ने एक मैगजीन खाली कर दूसरी मैगजीन डाली और फिर एक के एक बाद एक सभी गोलियां बजरंगी के शरीर में उतार दीं।

चश्मदीद कैदी ने बताया कि वहीं इसके बाद चारो तरफ हड़कंप मचा गया और यह देखकर वहां तैनात एक पुलिसकर्मी भी भाग निकला। अन्य बैरकों से बाहर घूम रहे कैदियों में भी भगदड़ मच गई। वह जहां के तहां छिप गए। इसके बाद सुनील अपनी बैरक में चला गया। करीब पांच मिनट बाद पुलिसकर्मी, कैदियों मौका-ए-वारदात पर पहुंचे तो बजरंगी का शव लहूलुहान पड़ा था। सुनील को पुलिसकर्मियों ने घेर लिया और बैरक की तलाशी ली, लेकिन उस समय कुछ नहीं मिला। बाद में सुनील ने इतना जरूर कहा कि वह मुझे मारने आया था, मैंने उसे मार दिया। प्रत्यक्षदर्शी का दावा है कि सुनील पर पहले से पिस्टल थी।

पढ़ें:- मुन्ना बजरंगी हत्याकांड: हाईकोर्ट ने ख़ारिज की सीबीआई जांच की याचिका 

सीडीआर खोलेगी राज

सवाल उठता है कि सुनील के पास किसकी कॉल आई, जो वह बजरंगी से इतना क्षुब्ध हो गया। चर्चा है कि बजरंगी के गुर्गों ने सुनील के भाई अरविंद की पूर्वांचल की जेल में पिटाई कर दी थी, जिससे वह क्षुब्ध था और बजरंगी को मौत के घाट उतार दिया। पुलिस ने राठी के मोबाइल की सीडीआर निकलवाई है, जिसमें साफ हो जाएगा कि इतनी सुबह कॉल करने वाला व्यक्ति कौन था?

 

 

Related posts:

31 राज्यों के 25 मुख्यमंत्री करोड़पति, जानिए कौन है सबसे धनी
फूलपुर उपचुनाव: सपा का ये चर्चित चेहरा, अपनी ही पार्टी के खिलाफ लड़ेगा चुनाव
जिस आरोपी की थी पुलिस को तलाश, वह दिखा मुख्यमंत्री योगी के साथ
चेतावनी: अगले 72 घंटों में यूपी और राजस्थान में आ सकता है तूफान
पीएम मोदी बोले- कांग्रेस का एजेंडा मुझे गाली देना और मेरा विरोध करना
बड़ी राहत : फ्री बैंकिंग सर्विस चेक बुक व एटीएम सेवाएं GST के दायरे से होंगी बाहर
अरबाज खान का IPL सट्टेबाजी में नाम आया सामने, पुलिस करेगी पूछताछ
3 जुलाई: जानिए राशिफल में कैसा रहेगा आज आपका दिन, इन बातों का रखें खास ध्यान
लखनऊ: पुलिस की हिरासत में आरोपी ने खुद को मारा चाकू
लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी के पीएम चेहरे होंगे ये नेता!
नीतीश की खुली चेतावनी, हमें इग्नोर किया तो राजनीति से हो जाओगे इग्नोर
धारा 377 पर बहस हुई पूरी, सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *