सैनिक विहार कालोनी में गुर्गों ने पीडब्ल्यूडी के जेई व उनकी पत्नी पर कहर बरपाया

PWD's JE and his wife

लखनऊ। तेलीबाग की सैनिक विहार कालोनी में बिल्डर के गुर्गों ने पीडब्ल्यूडी के जेई व उनकी पत्नी पर कहर बरपाया। पीड़ित का आरोप है कि उन्होंने बिल्डर से मकान खरीदा था, अब वह उन पर मकान बदलने का दबाव बना रहे हैं। इससे इनकार करने पर बिल्डर के गुर्गों ने उन्हें मारापीटा और उनकी पत्नी के कपड़े फाड़ दिए। इतना ही नहीं बदमाशों ने उन्हें कार से कुलचने की भी कोशिश की। शोर-शराबा होने पर स्थानीय लोग जुटने लगे तो हमलावर असलहे लहराते हुए फरार हो गए। घटना की सूचना पर पहुंची पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज करके जांच शुरू कर दी है। इंस्पेक्टर पीजीआई रवीन्द्र नाथ राय ने बताया कि लोक निर्माण विभाग में कार्यरत एक जूनियर इंजीनियर अपने परिवार के साथ सैनिक विहार कालोनी में रहते हैं।

पढे: नदी से शव हुआ बरामद,पुलिस ने पीएम के लिए भेज शव 

उनकी पत्नी परिषदीय विद्यालय में शिक्षिका हैं। पीड़ित के मुताबिक अक्टूबर 2017 में उन्होंने ऐरेन्ट हाउस प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के मालिक जगजीत सिंह से सैनिक विहार कालोनी में मकान खरीदा था। जिसकी रजिस्ट्री उनकी पत्नी के नाम है। मकान खरीदने के लिए उन्होंने एलआईसी से लोन ले रखा है। पीड़ित के मुताबिक अब बिल्डर व उसके गुर्गे उन पर मकान बदलने के लिए दबाव बना रहे हैं। बंधक बनाकर मारापीटा जेई के मुताबिक रविवार को बिल्डर ने उन्हें इसी मुद्दे पर बात करने के लिए कालोनी में स्थित अपने ऑफिस बुलाया। वह अपनी पत्नी व दो रिश्तेदारों के साथ दोपहर करीब 3 बजे उसके ऑफिस पहुंचे। वहां बिल्डर व उसके कर्मचारी उन पर मकान बदलने का दबाव बनाने लगे। मना करने पर कंपनी के कर्मचारियों एके सिंह, अभिषेक द्विवेदी, अभिषेक शर्मा, मनोज कुमार यादव समेत अन्य लोगों ने उन्हें बंधक बना लिया और मारपीट करने लगे। असलहा ताना, कपड़े फाड़े दबंगों ने जेई व उनके रिश्तेदारों को जमकर पीटा। पत्नी ने बीच-बचाव की कोशिश की तो आरोपियों ने उनके बाल पकड़ कर घसीटे और कपड़े फाड़ दिए। उन लोगों ने महिला को कार से कुचलने की भी कोशिश की।

पीड़ित का कहना है कि लोगों के जुटने पर हमलावर असलहे लहराते हुए भाग निकले। इंस्पेक्टर ने बताया कि जेई की पत्नी की तहरीर पर आरोपियों के खिलाफ बंधक बनाने, मारपीट करने, छेड़छाड़ समेत संगीन धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की गई है। पुलिस ने बिल्डर के ऑफिस में दबिश दी लेकिन वहां ताला लगा था। अब पुलिस उनके ठिकाने पर दबिश दे रही है।

loading...

You may also like

दलित समर्थक छवि से दूर हो रही मायावती? SC/ST पदोन्नत पर दिया ऐसा बयान

लखनऊ। बुधवार को अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति