लखनऊ मंडल : पीडब्ल्यूआई ट्राली निरीक्षण के दौरान कर रहे हैं सेफ्टी से खिलवाड़

लखनऊ मंडललखनऊ मंडल
 लखनऊ।  उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल में  सहायक मंडल अभियंता लखनऊ-2 के अंतर्गत उन्नाव सेक्शन के पीडब्ल्यूआई  रमेश चंद्र यादव बीते 12 जुलाई  को सोनिक स्टेशन से उन्नाव तक ट्राली कर रहे थे। इस दौरान ट्राली के उपर लाल झंडी नहीं  लगाया गया था। लखनऊ मंडल में जो सेफ्टी से खिलवाड़ की घटना सामने आई है।

लखनऊ से कानपुर जाने वाला  रेलमार्ग काफी रहता है व्यस्त , फिर भी लखनऊ मंडल में सेफ्टी से खिलवाड़

ट्राली के दौरान सेफ्टी का पूरा ध्यान रखना पड़ता है ,क्योंकि उस दरम्यान गाडियों  का आवागमन चालू रहता है और  ट्रेन काफी स्पीड मे चलने के कारण पलक झपकते ही काफी दूरी तय कर लेती है। वैसे भी लखनऊ से कानपुर जाने वाला  रेलमार्ग काफी व्यस्त रहता है। इसके बावजूद भी ट्राली पर किसी प्रकार का लाल झंडी नहीं दिख रही है। इतना ही नहीं ट्राली को धक्का देने के लिए चार ट्रालीमैन रहते है। चार मे से तीन ट्रालीमैन जिंस पहने हुए है और न तो इन लोगो के पास लाल साफा है और न ही सेफ्टी जैकेट है।

तो क्या ट्रालीमैन पर कोई कानून लागू नहीं होता है ?

जब ट्रालीमैन जिंस पहनकर ड्यूटी पर आए तो इन्हे ड्यूटी पर क्यों लिया गया और ट्राली को धक्का देने जैसे महत्वपूर्ण कार्य पर क्यों लगाया गया । क्योंकि  पूर्व में  पीडब्ल्यूआई  द्वारा एक गेटमैन को बिना ड्रेस के गेट पर ड्यूटी करते हुए पाए जाने पर एडीईएन-2 राहुल जबरवाल  से कह कर चार्ज सीट दिलवाए थे। तो क्या ट्रालीमैन पर कोई कानून लागू नहीं होता है ? एसएसई के रहने के बाद भी एडीईएन द्वारा रमेश  के कहने पर  काफी संख्या मे ट्रैकमेन्टेनरो को चार्ज सीट दिया गया है।  इससे पूर्व मे भी पीडब्ल्यूआई  रमेश चंद्र यादव पर बिना सेफ्टी के कार्य करवाने का आरोप लग चुका है । अब देखने वाली बात है कि एडीईएन-2 राहुल जबरवाल इनपर क्या कार्रवाई करते हैं ?
loading...
Loading...

You may also like

हादसा, हकीकत या श्राप का साया है,कालभैरव रहस्य 2

लखनऊ । भारत में मिथक और लोक कथाओं