राजस्थान सर्वे : नौकरी नहीं तो इस बार चुनाव में मोदी को वोट नहीं

राजस्थानराजस्थान

जयपुर। साल 2014 में बड़े-बड़े वादे करके पीएम बने नरेन्द्र मोदी को लेकर जनता की राय बदलती हुई नजर आ रही है। जिन लोगों ने उन्हें केंद्र की सत्ता में बिठाया वाही लोग आज उनके खिलाफ खड़े हैं। उनका कहना है कि मोदी ने चुनावों में बड़े-बड़े वादा किये लेकिन वह उनकी उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे। एक प्रसिद्द न्यूज़ वेबसाइट के सर्वे के मुताबिक राजस्थान में राजस्थान में कस्बा बोन्ली के लोगों का कहना है कि नौकरी नहीं तो वोट नहीं।

पढ़ें:- स्थापना दिवस पर बोले अमित शाह, विपक्ष को बताया स्संप, नेवला और कुत्ता 

राजस्थान : नौकरी नहीं तो वोट नहीं

सर्वे के मुताबिक राजस्थान में कस्बा बोन्ली के निवासी 31 वर्षीय राकेश कुमार की पोस्ट-ग्रेजुएट डिग्री है। लेकिन राजस्थान में कस्बा बोन्ली के छोटे शहर में एक पेंटर का काम करते है। उनके परिवार में उनके अलावा 7 और भाई हैं। लेकिन केवल वो ही विश्वविद्यालय में पढ़ पाए राकेश कुमार का कहना कि पढ़े लिखे होने के बावजूद नौकरी पाने की उनके प्रयासों में असफल रहा है, उन्होंने नौकरी न मिल पाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार को दोषी ठहराया है। जैसा कि पीएम मोदी ने लोकसभा चुनाव में वादा किया था।

राकेश कुमार कहते हैं कि मैंने पिछली बार मोदी के लिए वोट किया था। “उन्होंने नौकरी देने का वादा किया था, और मुझे यकीन था कि मुझे कुछ मिलेगा। लेकिन ऐसा नहीं हुआ मैं उनके लिए फिर से वोट नहीं दूँगा। ”

इस मामले में कई राजनीति जानकारों का कहना है कि देश की युवाओं के लिए करोड़ों नौकरियों का निर्माण करने में मोदी की विफलता रही है। यह वह वादा है जो 2014 में तीन दशकों में सबसे बड़ा जनादेश हासिल करने में मददगार साबित हुआ। यही मई, 2019 लोकसभा चुनाव में उनके लिए सबसे बड़ा खतरा होगा।

पढ़ें:- दलित महासभा के इस बड़े फैसले सपा-बसपा गठबंधन को बड़ा झटका, चुनावों पर पड़ेगा असर

राजस्थान राज्य के कस्बा बोन्ली जो कि भारी मात्रा में गेहूं के खेतों के किनारे पर है। यहाँ पर 2013 की विधानसभा चुनावों और 2014 में लोकसभा चुनाव में बीजेपी के पक्ष में भारी मतदान हुआ था। इस शहर के निवासी व एक किसान नेता हनुमान प्रसाद मीणा का कहना है कि मेरे दो बेटे शिक्षित लेकिन बेरोजगार हैं। कई किसानों ने पहले मोदी के नाम पर मतदान किया था। लेकिन उनका अब यहां कोई समर्थक नहीं है। जब मोदी ने 2013 के अंत में रायटर शहर का दौरा किया, तो सभी जगह उनकी चर्चा थी। उनके वादे से व्यापार-अनुकूल सुधारों से विकास को बढ़ावा मिलेगा और रोजगार उपलब्ध करवाया जाएगा। लेकिन ऐसा लगता नहीं है कि उन्होंने कुछ ख़ास काम किया है।

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआईई) के मुताबिक, भारत में बेरोजगारी की दर मार्च में 16 महीने में सबसे ज्यादा 6.23 प्रतिशत पर पहुंच गई, जिनमें 1.3 अरब लोगों की 35 साल से कम उम्र है।

मोदी के मंत्रिमंडल में मंत्री रामविलास पासवान ने एक इंटरव्यू में कहा कि नौकरियों के लेकर आंकड़े चिंतित करने वाले हैं और सरकार इसके समाधान के लिए काम कर रही है। उन्होंने प्रांतीय प्राधिकरणों पर कुछ दोष भी हटा दिए। “लोगों को केवल नरेंद्र मोदी को रोजगार देने की उम्मीद है। वे भूल गए हैं कि नौकरियां बनाने में राज्य सरकारों को भी कुछ भूमिका निभानी है। फिर भी, केंद्र सरकार इसके बारे में चिंतित है। चुनाव में, यहां तक ​​कि छोटे मुद्दे भी एक कारक बन सकते हैं। सरकार इसे जानती है। उन्होंने कहा कि बीजेपी या उसके सहयोगी 2014 में सिर्फ सात में थे लेकिन वर्तमान समय में देश के 29 राज्यों में से 21 राज्यों हैं। एक समय देश की सबसे शक्तिशाली पार्टी कांग्रेस केंद्र में विपक्ष की भूमिका में है और केवल तीन राज्यों में उसकी सरकार है।

पढ़ें:- मोदी सरकार के खिलाफ़ बगावती सुर तेज, अब एक और दलित सांसद ने खोला मोर्चा 

फिर अपने सियासी जमीन को हासिल कर रही है कांग्रेस

मोदी लहर से कांग्रेस को कस्बा बोन्ली में एक संपन्न रिटेल सेंटर में एक बार वंचित करने में मदद मिली। किसानों के लिए दुकानों में शानदार चमड़े से लेकर उपग्रह डिश तक सब कुछ बेच दिया गया। लेकिन जैसा कि कुछ किसानों का विकास हुआ, वे चाहते थे कि उनके बच्चों को कृषि न करके नौकरी पेश में जाएं। मोदी ने चुनाव में प्रतिवर्ष लगभग 20 मिलियन नौकरियों का निर्माण करने की प्रतिज्ञा की थी। जिससे 1 99 1 के बाद से दूसरी बार बीजेपी की विधानसभा चुनाव में जीत हासिल हुई। लेकिन अब लोगों का कहना है कि कांग्रेस सत्ता में वापसी कर सकती है।

इस मामले में पूर्व केंद्रीय मंत्री और राजस्थान में कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष सचिन पायलट ने कहा कि बीजेपी ने उम्मीदों को ऊपर उठने में चूकी है। तब भी जब उन्हें पता था कि कुछ चीजें संभव नहीं थीं। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी “झूठे वादे” नहीं करेगी, लेकिन “नौकरियों का सृजन करने का सर्वोत्तम अवसर” विकसित होगा। राजस्थान में एक स्थानीय बीजेपी नेता हनुमंत दीक्षित ने माना कि नौकरियों की कमी के कारण पार्टी को आगामी चुनाव में नुक्सान हो सकता है, लेकिन मोदी को अपने वादों को पूरा करने के लिए थोड़े और समय की जरूरत है।

loading...
Loading...

You may also like

मेरठ में इंसानियत शर्मसार, 2 भाइयों ने सागी बहन से 4 साल तक किया बलात्कार

मेरठ। रेप का एक सनसनीखेज मामला सामने आया