सहयोगी दलों ने भी छोड़ा बीजेपी का साथ

सहयोगी दलों
Please Share This News To Other Peoples....

नई दिल्ली। मोदी सरकार के लिए तीन तलाक से सम्बंधित बिल को बिना संशोधन के पास कराना अब बेहद मुश्किल दिखाई पड़ रहा है। इस मामले में बीजेपी के सहयोगी दल भी उसके साथ नहीं हैं। इस बिल को सरकार ने लोकसभा में बहुमत होने के कारण असानी से पास करा लिया था। लेकिन राज्यसभा में इसे पास कराना उतना ही मुश्किल लगने लगा है। सदन में विपक्ष के हंगामे के कारण ये बिल पास नहीं हो सका। लेकिन आज सरकार की यही रणनीति यही रहेगी कि इसे किसी तरह भी पास कराया जा सके।

सूत्रों की माने तो सरकार इस मामले में विपक्ष की मांग मान सकती है क्योंकि उसके पास कोई रास्ता नहीं दिखाई पड़ रहा है कहा जा रहा है कि सरकार इसे सलेक्ट कमेटी भेज सकती है।

सम्बंधित खबर :-बिल को सलेक्ट कमेटी भेजने पर अड़ा विपक्ष 

सहयोगी दलों और विपक्ष की बिल को सलेक्ट कमेटी भेजने की मांग

  • इस बिल को पास कराने से पहले बीजेपी के सहयोगी दल और विपक्ष इसे सलेक्ट कमेटी को भेजने की मांग कर रहे हैं।
  • उनका कहना है कि इस बिल में तमाम खामियां है।
  • इसे पास करने से पहले इसे सलेक्ट कमेटी को भेजा जाए।
  • कहा जा रहा है कि सरकार ने इस बिल सजा का प्रावधान बेहद सख्त रखा है।
  • जोकि मुस्लिम परिवार की आर्थिक और पारिवारिक स्थिति पर गलत प्रभाव डाल सकता है।

सम्बंधित खबर:-विपक्ष की मांग- सेलेक्ट कमेटी को भेजे तीन तलाक बिल 

बीजेपी के सहयोगी दलों ने भी छोड़ा साथ

  • इस बिल को पास कराने के जज्बोजहत लगी बीजेपी के सहयोगी दलों ने भी उसका साथ छोड़ दिया है।
  • इस मामले में NDA के सहयोगी दल और विपक्ष इसे सलेक्ट कमेटी भेजने की मांग कर रहे हैं।
  • बीजेपी के सहयोगी दल AIADMK, शिवसेना और टीडीपी तीन तलाक बिल में संशोधन चाहती हैं।
  • साथ ही विधेयक को संसदीय समिति को भेजने वालों में कांग्रेस की तरफ प्रस्तावित सदस्यों के नाम में टीडीपी का नाम है।
  • कांग्रेस, एसपी, टीएमसी, डीएमके, एनसीपी, सीपीआई और सीपीएम सहित अन्य पार्टियों ने भी विपक्षी एकता का साथ दिया।

सम्बंधित खबर:-राज्यसभा : तीन तलाक पेश करेगी केंद्र सरकार 

क्यों बेबस दिखाई पड़ रही है बीजेपी

  • बता दें कि लोकसभा में इस बिल को पिछले हफ्ते असानी से मंजूरी मिल गयी थी।
  • इसकी मुख्य वजह ये थी लोकसभा में सरकार के पास बहुमत था।
  • लेकिन राज्यसभा में परिस्थितियां बिलकुल उलट है।
  • राज्यसभा में  कूल 238 सदस्य है जिसमें बीजेपी और कांग्रेस के पास 57 सीटें हैं।
  • वहीं, सपा-18, अन्नाद्रमुक-13, तृणमूल-12, बीजद-8, वामदल-8, तेदेपा-6, एनसीपी-5, द्रमुक-4, बसपा-4, राजद के 3 सदस्य हैं।
  • इसके अलावा बीजेपी के सहयोगी दलों के 20 सदस्य हैं।
  • ऐसे में बिल को पास पास कराने के लिए सरकार को कांग्रेस के समर्थन की आवश्यकता पड़ेगी।

Related posts:

अमेठी दौरे पर शाह को मिली मंजूरी, राहुल को No Entry
जात गवाए और भात भी नहीं खाए, मोदी से अच्छा होता सीएम और शिक्षामंत्री को बुला लेते
602 मतदान केन्द्रों पर नगर निगम व नगर पंचायत की होगी वोटिंग
माकन ने AAP के खिलाफ खोला मोर्चा, EC से एनडी गुप्ता नामांकन रद्द करने की मांग
चिदंबरम के किचन और घर ED की रेड, सुप्रीम कोर्ट उठा चुका है सवाल
सुरक्षा कारणों से राहुल को छठी पंक्ति में बिठाया गया, क्या स्मृति-शाह की नहीं थी चिंता
सुब्रमण्यम स्वामी का बयान- गद्दार को मिला भारत रत्न, आरएसएस के लोगों की अनदेखी क्यों
नए पीएम को लेकर संसद के गलियारों में इन नामों की चर्चा तेज, मोदी का नाम गायब
कोर्ट के फैसले का मजाक, नहीं हटाया नजायज़ कब्जा
परमाणु मिसाइल अग्नि 2 का परीक्षण, मारक क्षमता 2000 किलोमीटर
ओवैसी बोले- हमारी मस्जिद थी, है, रहेगी.. नहीं छोड़ेंगे दावा
गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर हुये डीहाइड्रेशन कर शिकार, हालत गंभीर

2 thoughts on “सहयोगी दलों ने भी छोड़ा बीजेपी का साथ”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *