राजद विधायक का दावा सही, तेजप्रताप की शादी में शामिल नहीं होंगे लालू

राजद विधायकराजद विधायक

रांची। चारा घोटाला मामले में सजा काट रहे लालू प्रसाद यादव के सबसे करीबी और उनके साथ साये की तरह रहने वाले भोला यादव ने राजद प्रमुख की तबियत को लेकर बड़ा बयान दिया है। भोला यादव का कहना है कि लालू की तबियत दिन प्रतिदिन बिगडती जा रही है। यहां तक कि वह उठ भी नहीं पा रहे हैं। लेकिन रिम्स प्रशासन का कहना है कि वो स्वस्थ हैं। उन्होंने कहा कि राजद प्रमुख की तबियत के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। साथ ही उन्होंने लालू की रिपोर्ट में छेड़छाड़ का आरोप लगाया है। अगर राजद विधयक का दावा सही निकालता है तो लालू तेजप्रताप यादव की शादी में शामील नहीं हो पाएंगे।

पढ़ें:- लालू प्रसाद यादव की हर रोज बिगड़ रही है तबियत, अब उठना भी हो रहा मुश्किल 

राजद विधायक ने लगाए गंभीर आरोप

लालू प्रसाद के बेहद करीबी और उनके साथ साए की तरह रहने वाले भोला यादव ने राजद प्रमुख की रिपोर्ट के साथ छेड़छाड़ का आरोप लगाते हुए कहा कि उनके मेडिकल रिपोर्ट से छेड़छाड़ किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि रिम्स प्रशासन प्राइवेट लैब जांच एजेंसी (मेडॉल) की गलत रिपोर्ट के आधार पर मेडिकल बुलेटिन जारी कर रहा है। राजद विधायक ने रिम्स प्रशासन ने अपने लैब में लालू यादव का सभी टेस्ट कराने की मांग की है।

पढ़ें:- प्रधानमंत्री बनने को लेकर राहुल ने दिया बड़ा बयान, कहा-ऐसा हुआ तो ही बनूँगा पीएम 

भोला यादव ने बताया कि जब लालू यादव को रिम्स से एम्स भेजा जा रहा था, उस समय टोटल काउंट (संक्रमण की जांच) 12,000 था। उन्होंने बताया कि एम्स में इलाज के दौरान यह घटकर 11,100 हो गया। जब लालू एम्स से फिर रिम्स आए तब टोटल काउंट 11,400 था। इसके दो दिन बाद यानी चार मई को जब फिर टोटल काउंट की जांच हुई तो यह 10,000 हो गया। उन्होंने सवाल उठाया कि दो दिनों में टोटल काउंट 1400 कैसे कम हो गया? उन्होंने मेडॉल की जांच रिपोर्ट पर सवाल उठाया है।

पढ़ें:- शाहजहांपुर: भाजपा विधायक और उनके बेटे पर सामूहिक दुष्कर्म का आरोप 

भोला यादव ने यह भी आरोप लगाया कि चार मई को लालू यादव का यूरीन का रंग लाल था। तब उन्होंने डॉक्टरों से अनुरोध किया था कि उसकी जांच कराई जाय। इसके बाद टेस्ट सैंपल लिया गया लेकिन जब रिपोर्ट मांगी तो मेडॉल कह रहा है कि सैंपल नहीं मिल रहा है। भोला यादव ने बताया कि फिलहाल राजद अध्यक्ष की किडनी की बीमारी थर्ड स्टेज में है। अगर इसी तरह लापरवाही होती रही तो बीमारी फोर्थ स्टेज में पहुंच जाएगी।तब फिर डायलिसिस शुरू करना होगा।

loading...
Loading...

You may also like

दिल्ली सरकार पर एनजीटी ने ठोका 50 करोड़ का जुर्माना

नई दिल्ली। दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण की गाज