नागपुर विश्वविद्यालय में छात्र पढ़ेंगे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का इतिहास

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का इतिहासराष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का इतिहास
Loading...

नई दिल्ली। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का इतिहास और राष्ट्र निर्माण में भागीदारी को नागपुर विश्वविद्यालय (राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय) के पाठ्यक्रम में शामिल किया गया है। बीए द्वितीय वर्ष के पाठ्यक्रम में संघ का इतिहास जोड़ा गया है। बता दें कि नागपुर में ही संघ का मुख्यालय भी है।

बीए द्वितीय वर्ष के पाठ्यक्रम में संघ का इतिहास जोड़ा गया

इसके तीसरे भाग में जहां राष्ट्र निर्माण में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की भागीदारी की जानकारी दी गई है, वहीं पहले भाग में कांग्रेस पार्टी के निर्माण और देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की राजनीतिक शुरुआत के बारे में बताया गया है। दूसरा भाग सविनय अवज्ञा आंदोलन जैसे मुद्दों पर आधारित है।

मोदी सरकार ने शुरू की सस्ते AC की बिक्री , जानिए खरीदने का तरीका

विश्वविद्यालय के बोर्ड ऑफ स्टडीज के सदस्य सतीश चफले ने मंगलवार को बताया कि बीए (इतिहास) द्वितीय वर्ष के चौथे सेमेस्टर में भारत का इतिहास (1885-1947) इकाई में राष्ट्र निर्माण में संघ की भूमिका पर आधारित पाठ जोड़ा गया है। इस कदम को छात्रों को इतिहास में ‘नए रुझानों’ के बारे में जागरूक करने के प्रयासों का हिस्सा बताया जा रहा है।

एमए (इतिहास) पाठ्यक्रम में एक पाठ ‘आरएसएस का परिचय’ भी

बता दें कि साल 2003-2004 में विश्वविद्यालय में एमए (इतिहास) के पाठ्यक्रम में एक पाठ ‘आरएसएस का परिचय’ भी था। सतीश ने कहा कि इस साल हमने इतिहास के छात्रों के लिए राष्ट्र निर्माण में संघ की भूमिका का पाठ जोड़ा है ताकि उन्हें इतिहास में हो रहे नए रुझानों का पता चल सके। मार्क्सवाद और नया मार्क्सवाद या नया आधुनिकतावाद नए रुझानों के तौर पर इतिहास का हिस्सा बने हैं।’

Loading...
loading...

You may also like

17 नवंबर 2019 का राशिफल : इन राशियों में कारोबार की बढ़ोतरी के हैं शुभ संकेत

Loading... 🔊 Listen This News जन्मकुंडली का इंसान