Main Sliderख़ास खबरफैशन/शैलीराष्ट्रीय

इम्यूनिटी बूस्ट ही नहीं वजन भी कम करती है गुलाब लस्सी

नई दिल्ली। गर्मी के मौसम में गले को तरावट से ज्यादा और क्या चाहिए। इस काम के लिए देसी विकल्प सबसे बेहतर होते हैं। ऐसा ही एक विकल्प है, लस्सी। लस्सी की कुछ शानदार रेसिपीज बता रही हैं, आरोही श्रीवास्तव

सामग्री-

  • दही- 2 कप
  • ठंडा पानी- 1 कप
  • चीनी- 3 चम्मच
  • रोज सिरप- 2 चम्मच
  • आइस क्यूब- आवश्यकतानुसार
  • कटा हुआ पिस्ता- गार्निशिंग के लिए

विधि-

  • ब्लेंडर में दही, ठंडा पानी, रोज सिरप, चीनी और थोड़े आइस क्यूब डालकर कुछ मिनट तक ब्लेंडर को चलाएं। चीनी चख लें। लस्सी को सर्विंग गिलास में डालें। पिस्ता से गार्निश करें और सर्व करें।

लस्सी बनाते समय ध्यान रखें ये टिप्स-

  • लस्सी में मौजूद इलेक्ट्रोलाइट और पानी, शरीर की नमी को* बनाए रखते हैं, साथ ही शरीर का आंतरिक तापमान भी नियंत्रित रखते हैं।
  • लस्सी में अच्छे बैक्टीरिया की मात्रा अधिक होती है, जिस वजह से इसके सेवन से पूरा पाचन तंत्र दुरुस्त रहता है। अगर आपको पेट से जुड़ी कोई दिक्कत है तो एक गिलास लस्सी पी लें, कुछ ही देर में तकलीफ दूर हो जायेगी। लंच के बाद इसका सेवन सबसे उपयुक्त माना जाता है।
  • जो लोग हमेशा एसिडिटी की समस्या से परेशान रहते हैं, उन्हें लस्सी का सेवन जरूर करना चाहिए। लस्सी की तासीर ठंडी होती है, जिस वजह से हार्टबर्न या अपच की समस्या से राहत दिलाने में यह बहुत असरदार है।
  • लस्सी का रोजाना सेवन वजन कम करने में भी मदद करता है। इसमें कैलोरी की मात्रा बहुत कम होती है और फैट तो होता ही नहीं है। इस लिहाज से यह वजन कम करने के लिए सर्वोत्तम है। इसीलिए नमकीन और थोड़ा पतली लस्सी डायबिटीज के रोगियों के खानपान का हिस्सा बनाने को कहा जाता है। इससे लंबे समय तक पेट भरा-भरा लगता है, इस तरह वजन नियंत्रित रखने में मदद मिलती है।
  • इसमें मौजूद लैक्टिक एसिड त्वचा को निखारने और दाग-धब्बों को हटाने में भी मदद करता है। यह त्वचा की अंदरूनी सफाई कर उसे निखारती है।
  • लस्सी में कैल्शियम की मात्रा बहुत ज्यादा होती है, जिस वजह से इसे रोजाना पीने से हड्डियां और मांसपेशियां मजबूत होने लगती हैं। एक कप लस्सी में लगभग 286 मिलीग्राम कैल्शियम पाया जाता है।
  • इसमें लैक्टिक एसिड भी खूब होता है और विटामिन डी भी पाया जाता है, इसलिए ये शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाता है। यह पेट फूलने जैसी समस्याओं में भी बेहद राहत पहुंचाती है।
loading...
Loading...