निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा, शासन की प्राथमिकता:कलीमुल्लाह

सिद्धार्थनगर । शिक्षा प्रत्येक बच्चे का मौलिक अधिकार है, इसलिए निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा शासन की प्राथमिकता है। निर्धनता और धनाभाव के कारण कोई बच्चा शिक्षा से वंचित न हो, इसलिए शासन द्वारा निःशुल्क शिक्षा की व्यवस्था हेतु गाँव-गाँव परिषदीय विद्यालय खोलकर निःशुल्क रूप से पुस्तक, ड्रेस, जूता मोजा, स्वेटर, और मध्यान्ह भोजन के साथ-साथ योग्य शिक्षक की व्यवस्था की गयी है। अभिवावकों को चाहिए कि अपने पाल्यों को परिषदीय विद्यालयों में नामांकन कराकर उन्हें नियमित रूप से विद्यालय भेजें, जिससे गाँव गरीब के बच्चे भी शिक्षा की मुख्य धारा से जुड़कर गाँव, क्षेत्र, प्रदेश, देश-विदेश मे अपना योगदान देकर नाम रोशन कर सकें।
उकरोक्त आशय का विचार पूर्व माध्यमिक शिक्षक संघ के जिला महामंत्री कलीमुल्लाह ने विकास क्षेत्र बर्डपुर के अन्तर्गत पूर्व माध्यमिक विद्यालय देवरा चौधरी में छात्र छात्राओं को निःशुल्क स्वेटर वितरण के उपरान्त उपस्थित छात्र छत्राओं, अभिवावकों को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किया। ग्राम प्रधान प्रतिनिधि राम निवास चौधरी, व विद्यालय प्रबन्ध समिति के अध्यक्ष साधू शरण ने विद्यालय के कुल 116 छात्र छात्राओं को निःशुल्क स्वेटर वितरित किया। उक्त अवसर पर राम कुमार वर्मा, राजेन्द्र प्रसाद तिवारी, कविता चौधरी, शिप्रा यादव, मनोज कुमार, राम बचन, निर्मला, सरस्वती आदि मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

loading...
Loading...

You may also like

जल्द ही पूर्व प्रधानमंत्री के नाम का जारी होगा 100 का सिक्का…

नई दिल्ली। जल्द ही आपको 100 रुपए का