राहुल गांधी के राफेल मामले के बयान पर SC ने मांगा जवाब

राहुल गांधीराहुल गांधी

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट के आदेश को तोड़-मरोड़ कर लोगों के बीच रखने के मामले में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी फंसते नज़र आ रहे हैं आपको बता दें कि कोर्ट ने उनको मामले पर सफाई देने को कहा है. बता दें कि कोर्ट ने साफ किया कि राफेल मामले में राहुल ने जिन बातों को आदेश का हिस्सा बताया, वो कोर्ट ने नहीं कही थीं, जानकारी के अनुसार बता दें कि 11 अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट ने राफेल मामले में कुछ कागजों को कोर्ट में रखे जाने पर एटॉर्नी जनरल के विरोध को खारिज किया था, लेकिन राहुल ने बयान दिया कि कोर्ट ने चौकीदार नरेंद्र मोदी को चोर कहा है.

ये भी पढ़ें : जब मोदी पैजामा पहनना भी नहीं सीखे थे तब नेहरू-इंदिरा ने बनाई थी फौज : कमलनाथ 

आपको बता दें कि बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी ने इसे अवमानना बताते हुए याचिका दायर की मीनाक्षी लेखी ने कहा कि राहुल ने कोर्ट के आदेश को लेकर लोगों में भ्रम फैलाने की कोशिश की, इस तरह की हरकत न्यायिक प्रक्रिया में दखल है, बता दें कि मीनाक्षी लेखी की तरफ से कोर्ट में पेश पूर्व एटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने राहुल का बयान हिंदी में पढ़ कर कोर्ट को सुनाया.

ये भी पढ़ें : जाने किन कारणों से लगा मायावती और योगी के चुनाव प्रचार पर रोक 

जानकरी के अनुसार रोहतगी ने बताया कि कोर्ट के आदेश के बाद राहुल ने बयान दिया- सुप्रीम कोर्ट ने चौकीदार नरेंद्र मोदी को चोर कहा है की मोदी जी ने अपने दोस्त अनिल अंबानी की जेब मे 30 हज़ार करोड़ रुपए डाले हैं मामले की सुनवाई कर रही बेंच के अध्यक्ष चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने इस पर हैरानी जताते हुए कहा कि लेकिन हमने तो ऐसा कुछ नहीं कहा कि आप अपने आदेश में इसे साफ करें और अवमानना करने वाले से जवाब मांगें.

ये भी पढ़ें : झारखंड : गिरिडीह में सीआरपीएफ का एक जवान शहीद,3 नक्सली ढेर 

बता दें कि चीफ जस्टिस ने आदेश में लिखवाया हमने कानूनी पहलू पर फैसला लिया है बता दें कि कुछ ऐसे कागज़ात को सुनवाई के हिस्सा बनाने को तैयार हुए जिनका एटॉर्नी जनरल ने विरोध किया था लेकिन हमारा नाम लेकर राहुल गांधी ने जो बातें मीडिया और जनता के सामने कहीं, वैसी कोई टिप्पणी हमारी नहीं है.

Loading...
loading...

You may also like

यौन शोषण के मामलों की तत्काल जांच  करेगी ‘बलात्कार जांच किट्स

🔊 Listen This News नयी दिल्ली| गृह मंत्रालय