पीएम मोदी को महिलाओं ने भेजे एक हजार ‘सेनेटरी पैड’, जानिए क्या है वजह

पीएम मोदी
Please Share This News To Other Peoples....

नईदिल्ली। मध्यप्रदेश के ग्वालियर की महिलाओं ने “सेनेटरी पैड” को कर मुक्त करने के लिए एक अनोखा प्रदर्शन किया है। सेनेटरी नैपकीन को जीएसटी के दायरे में लाए जाने से उसकी कीमतें बढ़ गई हैं।  इस चलते महिलाओं ने एक हज़ार सेनेटरी नैपकीन पीएम मोदी को भेजने की तैयारी कर ली हैं। खास बात यह कि इन नैपकिन पर मैसेज भी लिखा हुआ है।

ये भी पढ़ें:करारी हार से अखिलेश ने लिया सबक, गठबंधन नहीं राहुल से है दोस्ती

पीएम मोदी को महिलाओं ने भेजे एक हजार ‘सेनेटरी पैड’

  • सेनेटरी नैपकीन को जीएसटी के दायरे में लाए जाने से उसकी कीमतें बढ़ गई हैं।
  • “सेनेटरी पैड” को कर मुक्त करने के लिए एक अनोखा प्रदर्शन किया किया गया है।
  • मध्यप्रदेश के ग्वालियर की महिलाओं ने एक हज़ार सेनेटरी नैपकीन प्रधानमंत्री को भेजने की तैयारी कर ली हैं।
  • महिलाओं ने कि इन नैपकिन पर मैसेज भी लिखा है।
  • महिलाओं द्वारा हस्ताक्षरित एक हजार नैपकीन और पोस्टकार्ड प्रधानमंत्री को भेजे जायेंगे।
  • ग्वालियर निवासी प्रीति देवेंद्र जोशी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक तरफ देश के स्वच्छता अभियान चला रहे हैं,
  • और दूसरी ओर सेनेटरी नैपकीन को ‘लग्जरी सामान’ में शामिल किए हुए हैं।
  • आंदोलन की रूपरेखा के मुताबिक, पांच मार्च को एक हजार नैपकीन प्रधानमंत्री को पोस्टकार्ड के साथ भेजे जाएंगे।
  • दूसरे चरण में एक लाख और तीसरे चरण में पांच लाख नैपकीन भेजे जाएंगे।

क्या कहना है महिलाओं का

  • ग्वालियर से आई महिलाओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक हजार सेनेटरी पैड भेजने का फैसला किया है।
  • इसपर प्रीति जोशी ने कहा कि, ‘पीएम एक तरफ देश के स्वच्छता अभियान चला रहे हैं, दूसरी ओर सेनेटरी नैपकीन को ‘लग्जरी सामान’ में शामिल किए हुए हैं।’
  • उन्होंने कहा, “सेनेटरी नैपकीन पहले से ही महंगा था, महंगाई के दौर में हर महिला नैपकीन आसानी से नहीं खरीद पाती थीं।”
  • “नए कर लग जाने से तो वह और भी महंगा हो गया है।”
  • अभियान से जुड़ीं उषा धाकड़ ने कहा, “इस अभियान के जरिए किशोरियों,
  • युवतियों व महिलाओं से नैपकीन पर उनका नाम और संदेश लिखवाया जा रहा है।”
  • “पोस्टकार्ड के साथ हस्ताक्षर युक्त एक हजार पैड पीएम मोदी को भेजकर हम मांग करेंगे कि,
  • सेनेटरी नैपकीन पर लागू 12 प्रतिशत जीएसटी सहित अन्य करों को खत्म किया जाए।”
loading...